Blog

योगी आदित्यनाथ
Bureau | February 6, 2018 | 0 Comments

Yadav caste in Uttar Pradesh is a crime in Yogiraj

योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथ

योगीराज में यादव होना गुनाह, मंत्री, MLA, MP के बाद पुलिस भी बनी दुश्मन, यादव नाम सुनते ही मारी गोली !

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के दौरान एक जाति विशेष (यादव) का जिक्र अपनी हर रैली में करने वाले पीएम मोदी तब ये आरोप लगाते थे कि जाति विशेष के लोगों का प्रदेश के अधिकतर थानों में कब्जा है। जाति विशेष को हर जगह प्राथमिकता दी जाती है। जाति विशेष (यादवों) ने दूसरी जातियों के हक पर कब्जा जमा रखा है। तब चुनावी लाभ लेने के लिए यादवों के खिलाफ अन्य जातियों को भड़काने का काम पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने जमकर किया।

उत्तर प्रदेश का विधान सभा चुनाव जीतने के बाद सत्ता में काबिज हुई बीजेपी के नेताओं के यादवों के खिलाफ जहरीले बोल अभी भी जारी है। कभी कोई मंत्री यादव दरोगा को धमकी देता है तो कभी कोई विधायक किसी अधिकारी को जान से मारने की धमकी देता है। तो कभी कोई सांसद छुआकि इंचार्ज को यह कहता है कि यादव हो तो क्या गुंडा हो। यादवों के खिलाफ इस तरह की मानसिकता को पैदा करने वाली बीजेपी ने यूपी की पुलिस में तैनात दरोगाओं को भी यादव जाती का दुश्मन बना दिया। जिसका जीता जागता उदाहरण नोएडा में घटित घटना है।

चुनाव प्रचार के दौरान और उससे पहले बीजेपी पोषित मीडिया द्वारा यादवों को खूब बदनाम किया गया। 60 में 56 यादव एसडीएम, उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को यादव आयोग की फर्जी खबर खूब चलाई गई यही नहीं उत्तर प्रदेश के थानों में यादव दरोगा की फर्जी खबर चलाई गई। जिसमें मीडिया ने बहुत बड़ा योगदान अदा किया। चुनाव प्रचार के दौरान यादवों के खिलाफ जो साजिश की गई उसका असर अब देखने को मिल रहा है।

नोएडा के सेक्टर 122 स्थित चौकी में तैनात दरोगा विजय दर्शन शर्मा ने एक युवक को सिर्फ इसलिए गोली मार दी क्योंकि वो यादव था। सेक्टर 122 स्थित सीएनजी पम्प पर शनिवार रात करीब 10 बजे दरोगा विजय दर्शन शर्मा ने स्कार्पियो सवार युवकों को रोका और उनपर वर्दी का रौब झाड़ने लगा। जब युवकों ने दरोगा से रोके जाने की वजह पुंछी तो दरोगा ने युवक का नाम पूंछा और नाम सुनते ही युवकों पर फायरिंग झोंक दी। स्कार्पियो सवार युवक जीतेन्द्र यादव ने जैसे ही अपना नाम बताया तो यादव सुनते ही दरोगा विजय दर्शन शर्मा ने युवक के गले से सटाकर गोली मार दी ताकि बचने का कोई भी चांस न हो। साथ ही उसने जीतेन्द्र यादव के एक साथी को भी गोली मारी।

यही नहीं दरोगा ने अपनी करतूत छुपाने के लिए इस घटना को एनकाउंटर बता दिया। जिसमें एक निर्दोष युवक जीतेन्द्र यादव को गोली मार दी जबकि जीतेन्द्र यादव के ऊपर एक भी पुलिस केस नहीं है।

इससे पहले कई यादव अधिकारीयों को जान से मारने की धमकी और देख लेने की धमकी भाजपा नेताओं द्वारा दी गई हैं। जिसमें हाल की ही एक घटना है जिसमें भाजपा सांसद राम शंकर कठेरिया ने एक चौकी इंचार्ज को फोन कर के कहा कि यादव हो तो क्या गुंडा हो और देख लेने की धमकी दी। जिसका ऑडियो वायरल हो गया था। जबकि चौकी इंचार्ज सिर्फ एसपी के आदेशों का पालन कर रहे थे और अपना फर्ज निभाते हुए अतिक्रमण हटवा रहे थे जो सांसद को बर्दास्त नहीं हुआ क्योंकि अतिक्रमण करने वालों में बीजेपी के लोग और सांसद के समर्थक थे।

योगी का एनकाउंटर राज, सुमित गुर्जर के बाद पुलिस ने जीतेन्द्र यादव को मारी गोली, दिखाया एनकाउंटर !

उत्तर प्रदेश में यादव होना गुनाह हो गया है अगर आप यादव हैं तो कोई भी पुलिस वाला, सांसद, विधायक आपको धमकाने, जान से मारने की धमकी देगा। या फिर गोली से उड़ा देगा। नोएडा के सेक्टर 122 (पृथला गांव) में रहने वाले जिम ट्रेनर जीतेन्द्र यादव को एक दरोगा ने इसलिए गोली मार दी क्योंकि वो यादव था। सेक्टर 122 के सीएनजी पम्प पर नशे में धुत दरोगा ने युवक का नाम पूंछा युवक का नाम यादव सुनते ही उसे गोली मार दी और पुलिस एनकाउंटर दिखा दिया। जबकि युवक जीतेन्द्र यादव पर एक भी पुलिस केस नहीं दर्ज था।

योगी के एनकउंटरराज में यह कोई पहला मामला नहीं है जब फर्जी एनकाउंटर की खबर सामने आई है इससे पहले भी योगी की पुलिस ने सुमित गुर्जर नाम के युवक का फर्जी एनकाउंटर कर दिया था सुमित गुर्जर पर भी कोई भी पुलिस केस नहीं था।

जितेंद्र यादव बहन की सगाई कर बहरामपुर से अपने चार सा‌थियों के साथ वापस आ रहा था। स्कॉर्पियों में उसके चार साथी भी सवार थे। सेक्टर 122 के सीएनजी पेट्रोल पंप के पास दरोगा ने जीतेन्द्र यादव पर गोली चला दी। गोली लगने से गंभीर रूप से घायल जितेंद्र यादव को नोएडा के फोर्टिस में भर्ती कराया गया है, जबकि जितेंद्र यादव के अन्य साथी गायब बताए जा रहे हैं।

नोएडा के फोर्टिस में जिंदगी और मौत से जूझ रहे जितेंद्र यादव उर्फ डम्बर के परिवार का आरोप है कि रात लगभग 10 बजे जब बहरामपुर से बहन की सगाई कर लौट रहे थे तभी नशे मे धुत विजयदर्शन नाम के दरोगा ने फर्जी एनकाउंटर करने की कोशिश की।

जितेंद्र यादव नोएडा के सेक्टर122 स्थित पृथला गांव में जिम चलाता है। उसका कोई क्रिमिनल रेकॉर्ड नहीं है। परिवार का कहना है कि एक गोली गले में लगी है जबकि दूसरी रीढ़ की हड्डी में अटक गई है।

घटना के वक्त मौजूद उसके दोस्तों को भी पुलिस ने ही गायब कर दिया है।

Bureau
Author: Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Related Posts

Leave a Comment

Your email address will not be published.