Blog

जन्मदिन पर लंदन में बेटे अर्जुन के साथ फुटबाल खेले अखिलेश यादव
Bureau | July 1, 2020 | 0 Comments

President of the Samajwadi Party Akhilesh Yadav birthday special

Akhilesh Yadav Birthday: अखिलेश यादव के जीवन से जुड़े ये किस्से शायद आपको न पता हों

सैफई से निकल कर उत्तर प्रदेश की राजनीति में अपना परचम लहराने वाले समाजवादी पार्टी के युवा नेता अखिलेश यादव का आज जन्मदिन है। अखिलेश की जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव आए लेकिन उन्होंने कठिन समय में भी कभी अपना संयम नहीं खोया। अखिलेश के जन्मदिन पर जानिए उनसे जुड़ी खास बातें… 

डिंपल और अखिलेश की पहली मुलाकात एक दोस्त के जरिए लखनऊ में हुयी थी। तब डिंपल लखनऊ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन कर रही थीं। धीरे-धीरे उनकी यह मुलाकातें प्यार में बदल गई। चार साल डेट करने के बाद 1999 में घर वालों की इजाजत के बाद दोनों की शादी हुई।

विदेश में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद अखिलेश ने जब यूपी की राजनीति में कदम रखा तो उनके पिता मुलायम सिंह पहले से ही एक मजबूत जमीन तैयार कर चुके थे। जहां से अखिलेश को बस अपने कदम आगे बढ़ाने थे। हुआ भी कुछ ऐसा ही।

अखिलेश के लिए उनकी पत्नी डिंपल उनके राजनीतिक कॅरियर में लेडीलक साबित हुई। अखिलेश यादव मीडिया में तो अपनी राजनीति को लेकर चर्चा में बने रहते हैं, लेकिन वे अपने व्यक्तिगत जीवन को सभी के सामने लाना पसंद नहीं करते

24 नवंबर 1999 को अखिलेश ने डिम्पल से लव-मैरिज की थी और दोनों को अपने घरवालों को मनाने के लिए खूब पापड़ भी बेलने पड़े थे। हालांकि शादी के 21 साल बाद आज यादव परिवार में हर कोई बहू के रूप में डिम्पल पर गर्व करता है।

अखिलेश जब पहली बार डिम्पल से मिले तब वह 17 साल की थीं और अखिलेश 21 साल के। अखिलेश उस वक्त इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे थे और डिम्पल स्कूल में थी। एक दोस्त के यहां अखिलेश और डिम्पल की पहली मुलाकात में ही दोस्ती हो गई थी।

ये दोस्ती कुछ ही दिनों में प्यार में बदल गई। अखिलेश पर लिखी गई एक किताब के मुताबिक अखिलेश यादव डिम्पल से मिलने का बहाना ढूंढ़ते रहते थे और उसी दोस्त के यहां डिम्पल से मिलने जाते थे। पढ़ाई के लिए ऑस्ट्रेलिया जाने के बाद भी अखिलेश डिम्पल के संपर्क में बने रहे और वहां से उन्हें कार्ड और लव-लेटर भेजते रहते थे।

पढ़ाई कर अखिलेश जब वापस लौटे तो पिता मुलायम ने उनसे शादी के बारे में पूछा। संकोच और मर्यादा के चलते अखिलेश पिता को अपने मन की बात बता नहीं सके। बताया जाता है कि उन्होंने अपने मन की बात अपनी दादी मूर्ति देवी को बताई। दादी की तरफ से हरी झंडी मिल जाने के बाद अखिलेश ने बाकी सबको भी मनाया और दादी ने ये बात पिता मुलायम तक पहुंचा दी। 

वहीं डिम्पल उत्तराखंड के लेफ्टिनेंट कर्नल एसपी रावत की बेटी हैं। उनका परिवार भी इस शादी के लिए तैयार नहीं था। आखिरकार अखिलेश और डिंपल के प्यार को दोनों परिवारों ने समझा फिर उनकी शादी हुई। अखिलेश अर्जुन, टीना और अदिति तीन बच्चों के पिता हैं। राजनीतिक व्यस्तताओं के बाद भी वह परिवार और बच्चों को पूरा वक्त देते हैं।

अखिलेश के लिए डिंपल हैं लेडी लक

डिंपल यादव को अखिलेश अपना लेडी लक मानते हैं क्योंकि दोनों की शादी के बाद अखिलेश के राजनीतिक करियर ने लंबी छलांग लगाई. शादी के एक साल बाद ही साल 2000 में अखिलेश यादव कन्नौज से सांसद बने थे. अखिलेश डिंपल के तीन बच्चे हैं जिनका नाम अदिति, टीना और अर्जुन है. डिंपल यादव भी कन्नौज लोकसभा सीट से दो बार सांसद रह चुकी हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव राजनीतिक जीवन के अलावा भी अपने परिवार को भी पूरा समय देते हैं। वे अपने बच्चों के लिए बेस्ट पापा हैं।

उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री रह चुके हैं अखिलेश

अखिलेश जब से राजनिति में आए तभी से उन्होंने समाजवादी पार्टी के लिए कुछ न कुछ किया. इनके कार्यों को देखकर जनता ने इन्हें तीन बार सांसद बनाया. इतना ही नहीं लोगों का इतना बहुमत मिला इन्हें कि साल 2012 में इन्होंने उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. इस साल ही यह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य बने.

अखिलेश यादव के जन्मदिन पर पत्नी डिंपल ने लोगों से की ये खास अपील

समाजवादी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव का आज 47 वां जन्‍मदिन है। इस मौके पर उनकी पत्‍नी और पूर्व सांसद डिंपल यादव ने उन्‍हें अपने खास अंदाज में बधाई और शुभकामनाएं दीं। इसके साथ ही डिंपल यादव ने पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील कि वे इस संकट काल में इस मौके पर सार्वजनिक आयोजन से बचें। इसकी बजाए व्‍यक्तिगत स्‍तर पर किसी जरूरतमंद की मदद करें।

अपने अधिकारिक ट्विटर से ट्वीट करते हुए डिंपल ने पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को ये संदेश दिया है। समाजवादी पार्टी कार्यकर्ता हर वर्ष अखिलेश यादव का जन्‍मदिन धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन विभिन्‍न जिलों में पार्टी कार्यालयों पर कार्यकर्ता जुटते और केक काटकर खुशी मनाते हैं। लेकिन कोरोना महामारी और चीन से तनाव के बीच इस वर्ष पार्टी कोई तड़क-भड़क नहीं कर रही है। पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने ढंग से अपने राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष का जन्‍मदिन मनाने की तैयारी की है। कुछ पदाधिकारियों ने अस्‍पतालों में फल बांटकर,अनाथालयों में भोजन कराकर और सेनेटाइजर बांटकर अखिलेश यादव के जन्‍मदिन पर उन्‍हें शुभकामनाएं दीं।

अखिलेश यादव का यह 47वां जन्मदिन है। समाजवादी पार्टी के संस्थापक और संरक्षक मुलायम सिंह यादव के बेटे अखिलेश यादव का जन्म एक जुलाई 1973 को सैफई में हुआ था। 1999 में उनका विवाह डिंपल यादव के साथ हुआ। वह साल 2000 में पहली बार कन्‍नौज से चुनकर लोकसभा में पहुंचे थे। 15 मार्च 2012 के 38 साल की उम्र में उत्‍तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के मुख्‍यमंत्री बने। 19 मार्च 2017 तक वह इस पद पर रहे।

Bureau
Author: Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Related Posts

Leave a Comment

Your email address will not be published.