Blog

Yoga with Cycle yatra
Bureau | August 7, 2021 | 0 Comments

Akhilesh Yadav says: Samajwadi Party will win 400 seats in Uttar Pradesh

यूपी चुनाव 2022: 400 सीटें जीतने का लक्ष्य लेकर साइकिल यात्रा पर निकले अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं में भरा जोश

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा में अपराधियों की भरमार है। वो ‘मैनीफेस्टो’ नहीं ‘मनीफेस्टो’ बनाते हैं। उनके लिए राजनीति एक व्यापार है। भाजपा की सरकार ने कोरोना के दौरान लोगों की मदद नहीं की और बड़ी संख्या में मौतें हुई हैं।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा को हर मोर्चे पर नाकाम बताया। कहा कि जनता में भाजपा सरकार के प्रति इस कदर नाराजगी है कि सपा को 350 से 400 सीटें मिल सकती हैं। उन्होंने कहा कि जनता को कंफ्यूज करते-करते भाजपा खुद कंफ्यूज हो चुकी है। यही वजह है कि वह अपराधियों का स्वागत कर रही है और जासूसी कर रही है।

प्रदेश कार्यालय पर यात्रा शुरू करने से पहले पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने सपा संस्थापक सदस्य जनेश्वर मिश्र को याद करते हुए उनके सपनों का भी जिक्र किया। कहा कि उन्होंने ताउम्र समाजवाद कायम कर हर वर्ग को सहभागिता दिलाने के लिए संघर्ष किया। 2022 में समाजवादी सरकार बनाकर उनके सपनों को साकार किया जाएगा। सपा महंगाई, बेरोजगारी, कुछ समय पहले लागू किए गए तीनों कृषि कानून, आजम खां के  उत्पीड़न के खिलाफ सड़क पर उतर रही है। यह विरोध प्रदर्शन निरंतर चलता रहेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने सपा शासन में हुए कार्यों का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा नेता सपा के कामों को नाम बदलकर उद्घाटन कर रहे हैं। उन्होंने खुद कोई काम नहीं किया है। भाजपा मनी फेस्टो वाली पार्टी हो गई है। आरोप लगाया कि भाजपा सरकार विज्ञापनों में नंबर वन है। वह कुपोषण, गंगा किनारे लाशों को लकड़ी न देने में, चिताओं को जलाने, दवा की कालाबाजारी कराने, महिलाओं की असुरक्षा, फर्जी इनकाउंटर, भर्ती की मांग करने वालों को पीटने में नंबर वन है।

उन्होंने कहा कि चुनाव नजदीक आते देख भाजपा पिछड़ों, दलितों के संबंध में झूठी घोषणाएं कर रही है। इस दौरान अखिलेश यादव ने भारतीय हॉकी टीम को जीत पर बधाई दी। कोरोना संक्त्रस्मण के दौरान हुई मौतों पर संवेदना किया। मौके पर सपा के  राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरनमय नन्दा, पूर्व सांसद उदय प्रताप सिंह, नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन, राजेन्द्र चैधरी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

प्रदेश की हर तहसील में निकली समाजवादी साइकिल यात्रा

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव गुरुवार को साइकिल पर सवार होकर चुनावी यात्रा पर निकल पड़े। कार्यकर्ताओं में जोश भरा। समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र को याद करते हुए 2022 का चुनाव जीतने का संकल्प दिलाया। नौजवानों को बेरोजगारी के बहाने पुचकारा तो खाद, बीज, महंगाई के जरिए किसानों का मुद्दा भी उठाया। करीब छह किलोमीटर की यात्रा में चिलचिलाती धूप और उमस से पसीने से तर बतर नजर आए। लेकिन कार्यकताओं की नारेबाजी होते ही उनकी पैडल मारने की गति बढ़ाती रही।

प्रदेश कार्यालय पर सुबह से ही कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। गाजे- बाजे के साथ कार्यालय पहुंचने वाले कार्यकर्ताओं में गजब का जोश दिखा। सुबह करीब 11.15 बजे सिर पर लाल टोपी, काली जैकेट पहने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव साइकिल पर सवार हुए। खुद मास्क लगाया और साथ चल रहने वाले अन्य साइकिल यात्रियों को भी मास्क लगाने का इशारा किया। उनके पैडल मारते ही नारेबाजी करते हुए कार्यकर्ताओं का जत्था निकल पड़ा। कोई गले में भाजपा विरोधी नारा लिखा तख्ती लटकाए था तो कोई हाथ में झंडा लहरा रहा था। लोहिया पथ पर पहुंचते ही कार्यकर्ताओं में हाथ मिलाने और पैर छूने की होड़ लग गई। यह देख सुरक्षा कर्मियों ने अपना घेरा बढ़ा दिया।

फ्रंटल संगठनों की टीम भी सुरक्षा घेरा बनाकर चल रही थी। इस बीच विभिन्न स्थानों पर उनका स्वागत किया गया। लारेटो चौराहा, जियामऊ, 1090चौराहा, सिरोज कैफे होते हुए दयाल चौराहा से जनेश्वर मिश्रा पार्क पहुंचे। यहां समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्रा की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस दौरान पूरा परिसर कार्यकर्ताओं से खचाखच भर गया। यात्रा के जरिए भाजपा सरकार की नीतियों का विरोध किया गया। सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां को जेल भेजने, महंगाई, किसान कानून सहित भाजपा सरकार की ओर से किए गए अन्य कार्यों का भी विरोध किया गया। इससे पहले वह लखनऊ से उन्नाव तक रथयात्रा निकाल चुके हैं। सपा के लिए यह यात्रा काफी अहम है। पूर्व में भी इन यात्राओं के जरिए सपा सत्ता हासिल करने में कामयाब रही। वर्ष 2011 में हुए प्रयोग को नए सिरे से दोहराया जा रहा है।

बरेली में नरेश उत्तम, कन्नौज में डिंपल ने दिखाई हरी झंडी

प्रदेश के अन्य जिलों में वरिष्ठ नेताओं ने हरी झंडी दिखाकर समाजवादी साइकिल यात्रा को रवाना किया। इसके तहत प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने बरेली, पूर्व सांसद डिंपल यादव ने कन्नौज, नेता विरोधी दल विधान सभा रामगोविन्द चौधरी ने रायबरेली, रामजी लाल सुमन ने आगरा, डॉ राजपाल कश्यप ने इटावा, डा. मान सिंह ने चित्रकूट,  पूर्व मंत्री उज्ज्वल रमण सिंह ने वाराणसी, संतोष यादव सनी ने गोंडा, संजय लाठर ने मथुरा में, पूर्व मंत्री श्री राकेश वर्मा ने बहराइच,  याशर शाह ने श्रावस्ती में हरी झंडी दिखाई। इसी तरह अन्य जिलों में पार्या नेताओँ ने हरी झंडी दिखाकर यात्रा को रवाना किया।

मंत्रोच्चार के साथ एसिड पीड़ितों ने अखिलेश को थमाए फूल

समाजवादी साइकिल यात्रा के दौरान मंत्रोच्चार के साथ एसिड पीडितों ने स्वागत किया तो अखिवक्ता, डॉक्टर, व्यापारी एवं युवा अलग- अलग स्थानों पर स्टॉल लगाकर स्वागत करते रहे। इस दौरान विभिन्न स्थानों पर जश्न सा माहौल रहा। अंतर्राष्ट्रीय साइकिलिस्ट अभिषेक शर्मा ओर चैम्पियन साइकिल क्लब लखनऊ ने भी हिस्सा लिया।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में निकली साइकिल यात्रा शीरोज कैफे पहुंची तो यहां नगर उपाध्यक्ष नवीन धवन बंटी और केसरी खेड़ा वार्ड के पार्षद देवेंद्र सिंह यादव के नेतृत्व में एसिड पीड़ितों ने फूल भेंट किया। रिषभ तिवारी के नेतृत्व में 11 पंडितों ने मंत्रोच्चार और शंख बजाकर तिलक लगाया। महिला वूमेन हेल्प लाइन के पास लखनऊ बार एसोसिएशन के महामंत्री जितेंद्र सिंह यादव जीतू के नेतृत्व में अधिवक्ताओंने स्वागत किया। जेपी एनआईसी के पास सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. आशुतोष वर्मा के नेतृत्व में चिकित्सकों ने पुष्प वर्षा की।

सीएमएस के पास नगर उपाध्यक्ष गौरव सिंह यादव के नेतृत्व में, ग्लोबल चौराहे के पास नगर अध्यक्ष सुशील दीक्षित, सौरभ यादव, मधुप सिंह यादव, रितेश साहू, रूप यादव आदि ने स्वागत किया। इसी तरह स इसी तरह जियामऊ चैराहे पर समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष पवन मनोचा एवं सोनू कन्नौजिया, 1090 चैराहे पर मुकेश शुक्ला, दयाल चौराहे पर मोहम्मद अरमान एवं राजन त्रिवेदी, श्रीमती मीरा वर्धन, श्रीमती जरीना उस्मानी, पार्क गेट के पास पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मनोज पाल, सुजीत यादव, शिल्पी चौधरी, मुन्नी लाल, बेचा पाल, सुनील यादव आदि के नेतृत्व में स्वागत किया गया। जनेश्वर मिश्र पार्क के सामने सयुस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव ने समाजवादी रसोई में भोजन की व्यवस्था की।

सामाजिक समरसता जरूरी

कैंट क्षेत्र में साइकिल यात्रा के दौरान पूर्व मंत्री आरके गौतम ने कहा कि सामाजिक समरसता कायम करना जरूरी है। यह कार्य सिर्फ समाजवादी पार्टी कर रही है। यात्रा के दौरान भाजपा शासनकाल में हुई घटनाओं से लोगों को वाकिफ कराया गया।

सपा की नीतियों से अवगत कराया

सरोजनी नगर में निकली यात्रा के दौरान अनुराग यादव, शब्बीर खान, शौकत अली आदि ने संबोधित किया। इसी तरह लतीफ नगर चौराहे से पूर्व विधायक श्यामकिशोर यादव के नेतृत्व में निकली यात्रा  भटगांव, गढ़ी चुनौटी, रामचौराए बंथरा और अम्बरपुर व कुरौनी होते हुए कासिम खेड़ा पहुंची। यहां ग्राम प्रधान संतोष यादव के  स्वागत के साथ समापन हुई।  शेरा यादव,  दीपक यादव, भटगांव में राजेंद्र गौड़,  ज्ञानेंद्र कुमार ज्ञानू यादव और अनस खान,  गढ़ी चुनौटी में पूर्व प्रधान रज्जू सिंह के नेतृत्व में निकली यात्रा ने लोगों को सपा की नीतियों से अवगत कराया। इसी तरह रसूलपुर में महेंद्र यादव, बंथरा में रेशब खान आदि के नेतृत्व में यात्रा निकली।

भाजपा को जनविरोधी बताया

मोहनलालगंज तहसील क्षेत्र में नगराम इलाके में विधायक अंबरीश पुष्कर के नेतृत्व में साइकिल यात्रा निकली। इस दौरान अमरपाल सिंह, मायाराम वर्मा आदि मौजूद रहे। विभिन्न स्थानों पर हुई सभा में भाजपा को जनविरोधी बताया गया।  इसी तरह जिलाध्यक्ष  जय सिंह जयंत,  अशोक यादव के नेतृत्व में अलग- अलग इलाके में साइकिल यात्रा निकली। बघौली क्षेत्र में पूर्व जिला पंचायत सदस्य पुष्पा रावत के नेतृत्व में, गंगागंज में भरत यादव, लतीफ  फारुकी के नेतृत्व में साइकिल यात्रा निकली।
 
यात्रा के दौरान शुरू हो गया अनशन

मलिहाबाद में गहदों से कारोरी तक निकली यात्रा सीएल वर्मा के नेतृत्व में निकली। यात्रा के समापन पर स्मारक में प्रवेश नहीं देने पर सीएल वर्मा अनशन पर बैठ गए। कुछ देर बाद एसडीएम के बीच बचाव करने पर अंदर जाने दिया गया। इसके बाद कार्यकर्ताओं शहीदों को पुष्पांजलि दी।यहां नंदू विश्वकर्मा, मनोज सिंह,  प्रधान ईसापुर वासुदेव सिंह यादव, पूर्व ब्लॉक प्रमुख राम प्रसाद यादव आदि मौजूद रहे।  इसी तरह सुशीला सरोज, राजबाला के नेतृत्व में अलग- अलग इलाकेमें साइकिल यात्रा निकली गई। यात्रा में  सरबजीत यादव, विजय सिंह गौतम,  वीर सिंह,  भास्कर सिंह चौहान,  शत्रुघ्न मौर्य, जीत बहादुर रावत, काकोरी चेयरमैन नजमी खान, आसिफ  इस्तियाक, रियाज अहमद आदि मौजूद रहे।

सपा के सत्ता में आए बिना नहीं मिलेगा न्याया

बीकेटी में निकली यात्रा के दौरान जगदीप सिंह यादव, विदेश पाल यादव, रमेश सिंह रवि आदि मौजूद रहे। गांवों में विभिन्न स्थानों पर हुए स्वागत कार्यक्रम में सपा नेताओं ने कहा कि पार्टी के सत्ता में आए बिना सभी को न्याय नहीं मिल सकता है।

सपा का ‘साइकिल सैलाब’

राजनीतिक विश्लेषक कहते हैं वैसे तो जनेश्वर मिश्र समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में थे इसलिए समाजवादी पार्टी जनेश्वर मिश्र पर अपना सबसे ज्यादा हक भी समझती है। लेकिन बात जब ब्राह्मणों की आती है और बहुजन समाज पार्टी भी उसमें शामिल होकर जनेश्वर मिश्र को श्रद्धासुमन अर्पित करने लगे तो मामला ब्राह्मणों के बंटवारे की ओर भी दिखने लगता है…

उत्तर प्रदेश में चुनावी शोर बढ़ने लगा है। प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टी समाजवादी पार्टी ने गुरुवार को प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जनेश्वर मिश्रा की जयंती पर साइकिल रैली के माध्यम से उमड़े जनसैलाब से अपनी ताकत का एहसास कराया। वहीं बहुजन समाज पार्टी ने भी जनेश्वर मिश्र की जयंती पर ब्राह्मणों को अपने पाले में करने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने उनको श्रद्धा सुमन अर्पित कर ‘प्रणाम’ किया। कुल मिलाकर उत्तर प्रदेश की राजनीति ब्राह्मणों के इर्द-गिर्द ही घूम रही है।

लंबे समय से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सड़कों पर समाजवादी पार्टी के नेता और बड़ी भीड़ एक साथ नजर नहीं आ रही थी। गुरुवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जनेश्वर मिश्र की जयंती पर पूरे प्रदेश में साइकिल रैली का आयोजन किया। शुरुआत लखनऊ से की तो प्रदेश की राजधानी पर साइकिल का सैलाब उमड़ पड़ा। बहुत लंबे अरसे बाद समाजवादी पार्टी की इतनी बड़ी भीड़ और साइकिल रैली देखकर राजनीतिक गलियारों में कयास बाजी भी शुरू हो गई। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और पूर्व मंत्री राजेंद्र चौधरी कहते हैं कि यह जो भीड़ गुरुवार को प्रदेश की राजधानी की सड़कों पर दिखी यह उत्तर प्रदेश में आने वाली सपा सरकार की आहट ही है। उन्होंने कहा सिर्फ लखनऊ की राजधानी ही नहीं बल्कि प्रदेश के हर जनपद, तहसील, शहर, गांव और मोहल्लों में इतनी भीड़ के साथ साइकिल रैली का आगाज होता रहेगा।

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है जनेश्वर मिश्रा की जयंती पर अखिलेश यादव का मकसद साइकिल रैली के साथ ब्राह्मणों को साधना भी था। भारतीय जनता पार्टी को टक्कर देने के लिए बहुजन समाज पार्टी ने ब्राह्मण सम्मेलन का आगाज किया, तो अखिलेश यादव ने भी अपनी पार्टी के ब्राह्मण नेताओं को एकजुट कर प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन करने की तैयारी की। इसी दौरान जनेश्वर मिश्रा की जयंती पर बीते कुछ समय से बड़े आयोजन की तैयारियां चल रही थीं। ताकि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को एक साथ एक मंच पर लाकर ब्राह्मणों को अपने पाले में जोड़ने का संदेश दिया जाए। क्योंकि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी इस वक्त उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों को अपने पाले में खींचने के लिए लगी हुई हैं इसीलिए जनेश्वर मिश्र की जयंती राजनीतिक मामलों के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है।

राजनीतिक विश्लेषक एचडी शुक्ला कहते हैं वैसे तो जनेश्वर मिश्र और मुलायम सिंह यादव शुरुआत से ही कंधे से कंधा मिलाकर चलते रहे। चूंकि मिश्र समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में थे इसलिए समाजवादी पार्टी जनेश्वर मिश्र पर अपना सबसे ज्यादा हक भी समझती है। लेकिन बात जब ब्राह्मणों की आती है और बहुजन समाज पार्टी भी उसमें शामिल होकर जनेश्वर मिश्र को श्रद्धासुमन अर्पित करने लगे तो मामला ब्राह्मणों के बंटवारे की ओर भी दिखने लगता है। वह कहते हैं कि मायावती का जनेश्वर मिश्र की जयंती पर उनको श्रद्धा सुमन अर्पित करना और नमन करना यह संदेश देता है कि बसपा अब नई राह पर निकली हुई है। ऐसे में ब्राह्मणों की हिस्सेदारी सिर्फ भाजपा के खाते में ही नहीं जाएगी बल्कि बसपा और सपा भी उसमें मतलब भर की हिस्सेदारी लेने की तैयारी में जुट गई है।

साइकिल यात्रा के दौरान अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इस सरकार के पास अपना कोई भी काम नहीं है। उन्होंने कहा समाजवादी पार्टी के किए गए काम को अपना बता कर पब्लिक को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रही है। लेकिन प्रदेश की जनता भाजपा के झांसे में नहीं आने वाली। भाजपा अखिलेश यादव के इस बयान से कोई इत्तेफाक नहीं रखती है भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी कहते हैं कि जब चुनाव नजदीक आते हैं तो नेता सड़कों पर आ जाते हैं। उनका कहना है प्रदेश की जनता को अच्छी तरीके से पता है कि कौन काम करा रहा है और किसने कितना काम कराया था। राकेश त्रिपाठी ने समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि महज एक लाख रुपये खर्च करके शिलान्यास करा देने से पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे नहीं बन जाता है। उसके लिए बाकायदा बजट लाना पड़ता है और भाजपा सरकार ने न सिर्फ बजट लाकर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को तैयार कराया बल्कि अधूरे पड़े आगरा एक्सप्रेस-वे को भी पूरा कराया। उन्होंने कहा कि साइकिल रैली में उमड़ी भीड़ लखनऊ की नहीं पूरे प्रदेश से आए हुए लोगों की थी। राकेश त्रिपाठी कहते हैं जब आप पूरे प्रदेश के लोगों को राजधानी लखनऊ में बुला लोगे तो संख्या ज्यादा दिखेगी ही।

Bureau
Author: Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Bureau

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Related Posts

Leave a Comment

Your email address will not be published.