Yamla Pagla Deewana

Yamla Pagla Deewana Phir Se Movie Review

Yamla Pagla Deewana
Yamla Pagla Deewana

‘यमला पगला दीवाना फिर से’ में धूम मचा रहा आकाश का ‘राफ्ता राफ्ता देखो आंख में लड़ी है’

धर्मेंद्र का गाना ‘राफ्ता राफ्ता देखो आंख में लड़ी है’ एक बार फिर से नए अंदाज में दर्शकों को सुनने को मिल रहा है। शुक्रवार को रिलीज हो रही फिल्म ‘यमला पगला दीवाना फिर से’ में इस गीत का रीमिक्स तैयार किया गया है। इसमें कानपुर के आकाश ओझा ने अपनी आवाज दी है। आकाश के साथ इस गाने को रेखा, सोनाक्षी सिन्हा, विशाल मिश्रा, जॉर्डी पटेल और दिशा शर्मा ने गाया है। आकाश इंडियन आइडल, भारत की शान, रॉकस्टार जैसे कई फेमस रियलिटी शो में भी आ चुके हैं। वहीं, आकाश कई बड़े प्रोजेक्ट में भी काम कर रहे हैं जो जल्द ही रिलीज होंगे।

आकाश बताते हैं कि वह पिछले छह साल से मुंबई में रहकर सिंगिंग कर रहे हैं। फिल्म ‘यमला पगला दीवाना फिर से’ में उनका गाया हुआ गाना ‘राफ्ता राफ्ता’ उनके कॅरियर का अब तक का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट है। इस गाने में पर्दे पर बॉबी देओल, शत्रुघ्न सिन्हा, सोनाक्षी सिन्हा, धर्मेंद्र, रेखा, सलमान खान और सनी देओल डांस करते नजर आएंगे। इस गाने में सोनाक्षी और रेखा ने भी अपनी आवाज दी है। इससे पहले वह सुभाष घई की फिल्म ‘कांची’ में इस्माइल दरबार के साथ काम कर चुके हैं। वहीं, फिल्म रेस 3 और वीरे दी वेडिंग में भी उन्होंने काम किया है।

महेश मांजरेकर, सलीम सुलेमान, कैलाश खेर, ऊषा उत्थुप जैसे बड़े कलाकारों संग आकाश अपनी आवाज का जलवा बिखेर चुके हैं। वहीं कई अन्य बड़े कलाकारों संग भी उन्होंने हाल ही में प्रोजेक्ट साइन किए हैं। इसके अलावा वह थाइलैंड, साउथ अफ्रीका, यूएसए जैसे शहरों में कई लाइव कंसर्ट कर चुके हैं।

आकाश ने 2010 में रियलिटी शो ‘इंडियन आइडल’ में भाग लिया था, जिसमें वह गाला राउंड तक पहुंचे थे। इसके बाद आकाश ने 2011 में सारेगामा एकेडमी ज्वाइन की। वहां पर उन्होंने सिंगिंग के अहम गुर सीखे। इसके बाद 2012 में दूरदर्शन पर आने वाले रियलिटी शो ‘भारत की शान’ में वो फर्स्ट रनरअप रहे। 2014 में स्टार प्लस पर आने वाले शो ‘रॉकस्टार’ में आकाश बतौर मेंटर शामिल हुए। इसके बाद एंड टीवी पर आने वाले शो ‘द वाइस इंडिया’ में वह शान की टीम में थे और टॉप तीन तक पहुंचे थे।

डेढ़ साल की उम्र में जब बच्चे बोलना सीखते हैं तब आकाश गाना गाने की कोशिश किया करते थे। सबसे पहला गाना जो उन्होंने गुनगुनाया था वो है ‘नन्हा मुन्ना राही हूं’। आकाश बताते हैं कि उनको सिंगिंग का यह टैलेंट अपने माता-पिता से मिला। उनके अभिभावकों को भी गाने का काफी शौक है। पिता विजय ओझा एलआईसी में ऑफिसर हैं। एक जमाने में वह ऑल इंडिया रेडियो में गजल गाया करते थे। वहीं मां गीता ओझा भी कई अवसरों पर स्टेज परफॉर्मेंस दिया करती थीं। आकाश ने एयर फोर्स स्कूल से 12वीं और ओमर वैश्य महाविद्यालय से स्नातक किया है। इसके बाद उन्होंने मुंबई का रुख किया और सिंगिंग की दुनिया में नाम कमा रहे हैं।

यमला पगला दीवाना फिर से Review: बोझिल है देओल फैमिली की फिल्म

फिल्म: यमला पगला दीवाना फिर से

डायरेक्टर: नवनैत सिंह

स्टार कास्ट: धर्मेंद्र, सनी देओल, बॉबी देओल, कृति खरबंदा, शत्रुघ्न सिन्हा, असरानी

अवधि: 2 घंटा 28 मिनट

सर्टिफिकेट: U/A

रेटिंग: 1.5 स्टार

साल 2011 में जब फिल्म यमला पगला दीवाना आई, तो उसने दर्शकों को धर्मेंद्र और उनके बेटों के साथ हंसी मजाक का नया फ्लेवर दिया. लेकिन 2013 में रिलीज हुआ दूसरा पार्ट बॉक्स ऑफिस पर धमाल नहीं मचा सका. पहले पार्ट को समीर कार्णिक ने और दूसरे को संगीत सिवान ने डायरेक्ट किया था. अब लगभग 5 साल के बाद इसी सीरीज की तीसरी फिल्म यमला पगला दीवाना फिर से रिलीज हुई है. क्या यह फिल्म दर्शकों को हंसाने में कामयाब होगी. आइए जानते हैं आखिरकार कैसी बनी है यह फिल्म.

कहानी

फिल्म की कहानी पंजाब से शुरू होती है जहां वैद्य पूरन सिंह (सनी देओल) अपने भाई काला (बॉबी देओल) और दो बच्चों के साथ रहता है. पूरन सिंह का एक किराएदार भी है जिसका नाम जयवंत परमार (धर्मेंद्र) है. जो पेशे से वकील भी है. पूरन सिंह के पास वज्र कवच नामक आयुर्वेदिक दवा बनाने का फार्मूला है, जिसका काम कई पीढ़ियों से चलता आ रहा है. उस फार्मूले के पीछे मशहूर बिजनेसमैन माफतिया लग जाता है. कहानी में चीकू (कृति खरबंदा) की एंट्री होती है जो कि एक डेंटिस्ट है और सिलसिलेवार घटनाओं में उसकी मुलाकात पूरन सिंह और काला से होती है. कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब बिजनेसमैन माफिया अपनी तरफ से पूरण सिंह के ऊपर दवा का फॉर्मूला चोरी करने का केस करता है और कहानी पंजाब से गुजरात पहुंच जाती है. अंततः क्या होता है यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

कमजोर कड़ियां

फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी कहानी है जो काफी आउटडेटेड सी नज़र आती है और बांध पाने में असमर्थ दिखाई देती है. सनी देओल-बॉबी देओल और धर्मेंद्र जैसे बड़े-बड़े कलाकार की अदाकारी कहानी की वजह से फीकी पड़ जाती है. डायरेक्शन भी काफी हिला डुला है. कहानी सुनाने का ढंग भी काफी डगमगाया सा है. इसकी रफ्तार धीमी है जो दुरुस्त की जा सकती थी. इसके अलावा फिल्म के गाने रिलीज से पहले हिट नहीं हो पाए हैं. फिल्म में और मसाला भरा जा सकता था. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया.

जानिए आखिर फिल्म को क्यों देख सकते हैं

धरम पाजी, सनी देओल और बॉबी देओल, तीनों अभिनेताओं ने बढ़िया काम किया है. इसके साथ ही अभिनेत्री कृति खरबंदा ने भी कहानी के मुताबिक ही अभिनय किया है. फिल्म की सबसे बढ़िया बात इसके आखिर में आने वाले गीत में दिखाई देती है जब सलमान खान, रेखा, सोनाक्षी सिन्हा एक साथ धर्मेंद्र के गाने रफ्ता-रफ्ता पर थिरकते हुए नजर आते हैं. लेकिन कहानी कमजोर होने की वजह से हर एक परफॉर्मेंस काफी निराशाजनक दिखाई देती है.

बॉक्स ऑफिस

फिल्म का बजट लगभग 40 करोड़ रुपए बताया जा रहा है. इसे लगभग 2000 से ज्यादा स्क्रीन्स पर रिलीज किया जा रहा है. इसी के साथ फिल्म स्त्री भी रिलीज हो रही है. अब देओल परिवार के फैंस ही इस फिल्म को आगे ले जा सकते हैं.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *