Chief Minister Akhilesh Yadav met Mohammed Sami's family

State Government committed to making Gomti a clean River: Chief Minister Akhilesh Yadav

Chief Minister Akhilesh Yadav met Mohammed Sami's family
Chief Minister Akhilesh Yadav met Mohammed Sami’s family

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने शामली के कैराना में फायरिंग की घटना को गम्भीरता से लिया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कल शामली के कैराना में फायरिंग की घटना के दौरान एक चैनल विशेष के संवाददाता के साथ हुए दुर्व्यवहार की खबरों का संज्ञान लेते हुए डी0जी0पी0 तथा एस0पी0 को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया की स्वतंत्रता के लिए राज्य सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है और इसे प्रभावित करने वाले किसी भी तत्व को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कैराना की घटना को गम्भीरतापूर्वक लेते हुए सम्बन्धित डिप्टी एस0पी0 को डी0जी0पी0 मुख्यालय से सम्बद्ध करने तथा कैराना निरीक्षक श्री बी0पी0 सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंम्बित करने के निर्देश दिए, जिसके क्रम में उन्हें निलम्बित कर दिया गया है। साथ ही, उन्होंने सम्बन्धित उपजिलाधिकारी को भी हटाने के निर्देश दिए हैं।

घटना के सम्बन्ध में समाचार चैनलों की फुटेज में दिख रहे ब्लाॅक प्रमुख विजयी प्रत्याशी के समर्थकों के साथ-साथ अन्य दोषियों को तुरन्त गिरफ्तार करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने शामली के जिलाधिकारी को इलाके के शस्त्र लाइसेन्स निरस्त करने के भी निर्देश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि कल शामली जनपद में फायरिंग की एक घटना के दौरान एक बच्चे की गोली लगने से मौत हो गई थी। घटना के सम्बन्ध में मृतक के परिजनों द्वारा अभियोग पंजीकृत कराया गया है। अभियुक्तों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

* मुख्यमंत्री ने शामली के कैराना में हुई घटना के दौरान एक चैनल विशेष के संवाददाता के साथ हुए दुर्व्यवहार की खबरों का संज्ञान लेते हुए डी0जी0पी0 तथा एस0पी० को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए
* डिप्टी एस0पी0 को डी0जी0पी0 मुख्यालय से सम्बद्ध करने तथा उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश
* कैराना निरीक्षक श्री बी0पी0 सिंह तत्काल प्रभाव से निलम्बित
* उपजिलाधिकारी को भी हटाने के निर्देश
* समाचार चैनलों की फुटेज में दिख रहे ब्लाॅक प्रमुख विजयी प्रत्याशी के समर्थकों के साथ-साथ अन्य दोषियों को तुरन्त गिरफ्तार करने के भी निर्देश दिए
* शामली के जिलाधिकारी इलाके के शस्त्र लाइसेन्स निरस्त करें

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण सम्बन्धी कार्याें की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि राज्य सरकार ने गोमती नदी को स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया है। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को लखनऊ में गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित सभी अवशेष कार्याें को पूरी गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री आज यहां एक उच्चस्तरीय बैठक में गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित कार्याे की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गोमती को अविरल तथा स्वच्छ बनाने के लिए कटिबद्ध है। कोई भी नदी तब तक स्वच्छ नहीं हो सकती, जब तक उसमें मिलने वाली नदियां तथा अन्य छोटे-बड़े नाले एवं अन्य जल स्रोतों को प्रदूषण रहित नहीं कर दिया जाए। इसके साथ ही, शहरों में अवस्थापना, सुविधाओं में सुधार तथा कूड़े-कचरे निस्तारण का उचित प्रबन्धन भी किया जाना जरूरी है।

श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार ने गोमती नदी को स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया है। गोमती तट विकास परियोजना के लिए प्रदेश सरकार ने 1,000 करोड़ रुपये से अधिक धनराशि की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि गोमती में गिरने वाली नालियां और गन्दे नाले साफ हो जाएंगे तो गोमती स्वतः अपने प्राकृतिक स्वरूप को प्राप्त कर लेगी और स्वच्छ एवं प्रदूषण रहित हो जाएगी।

बैठक में अधिकारियों द्वारा मुख्यमंत्री को यह जानकारी दी गई कि गोमती नदी में वर्षा जल के संरक्षण हेतु देश में पहली बार रबर डैम का प्रयोग किया जा रहा है। गोमती में चैनल बनाने के लिए 12 किमी0 लम्बी डाईफ्राम वाॅल 16 मीटर गहरी बनायी गई है। इस बिन्दुओं को दृष्टिगत रखते हुए गन्दे पानी को गोमती नदी में गिरने से रोकने के लिए 27 किमी0 समानान्तर ड्रेन बनायी जा रही है तथा नालों में प्रवाहित हो रहे गन्दे जल को बायो टैक्नोलाॅजी के माध्यम से शोधित करने का पायलेट प्रोजेक्ट चालू किया गया है।

बैठक में यह भी जानकारी दी गई कि गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण परियोजना के अन्तर्गत गोमती के रिवर फ्रण्ट को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनाने हेतु कंसल्टेन्ट उस संस्था को नियुक्त किया गया है, जिसने सिंगापुर, मलेशिया में रिवर फ्रण्ट का डिजाइन किया था। रिवरफ्रण्ट परियोजना में हरियाली, साइकिल ट्रैक, जाॅगिंग ट्रैक, स्पोट्स ज़ोन जैसी आधुनिक सुविधाओं के साथ-साथ स्थानीय संस्कृति का समावेश भी किया गया है। गोमती को सदानीरा बनाए रखने के लिए इसे शारदा/शारदा सहायक से जोड़ा जाएगा।

उल्लेखनीय है कि गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण से सम्बन्धित समस्त निर्माण कार्याें को पूरा करने के लिए 02 वर्ष की समय सीमा निर्धारित की गई थी। सिंचाई विभाग के अधिकारी द्वारा बताया गया कि परियोजना से जुड़े सभी कार्याें को निर्धारित समय से 6 माह पूर्व ही पूर्ण करने के अथक प्रयास किए जा रहे हैं।

  • गोमती नदी को स्वच्छ बनाना राज्य सरकार का संकल्प: मुख्यमंत्री
  • गोमती नदी के सौन्दर्यीकरण सम्बन्धी अवशेष कार्याें को निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण किए जाने के निर्देश

Instructions issued to ensure time bound completion of remaining works of beautification of Gomti River

Chief Minister reviews beautification related works of Gomti River

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has said that the state government was committed to making Gomti a clean river and asked officers to ensure time bound completion of the pending works of the beautification of the Gomti River and that this was done with quality in mind.

The Chief Minister was today reviewing the progress of the beautification of Gomti River related works at a high-level meeting here. Reiterating that his government was committed to ensuring a clean and pollution free Gomti, Mr. Yadav pointed out that no river can be cleaned unless the rivers, small and big drains merging into it are made pollution free.

With this, he added, it was necessary to ensure that infrastructure facilities, garbage disposal systems are improved and managed well. Mr Yadav also informed that owing to its commitment to a clean Gomti, the state government has sanctioned Rs. 1,000 crore for the purpose. During the meeting, officers apprised the Chief Minister that in a first, a rubber dam experiment was done in the country wherein rainwater conservation would be done in the Gomti River.

To make a channel in the river, a 12 km long into 16 metre deep diaphragm wall has been made and to ensure that sewage and other polluted water does not find way into the river water, a 27-km parallel drain was being constructed and a pilot project has been executed to purify through biotechnology, dirty water flowing into the drains.

It was also informed at the meeting that to make the Gomti riverfront a world class one, the consultant appointed is the one behind designing of similar river fronts in Singapore and Malaysia. The riverfront project would be an amalgam of modern facilities like cycle track, jogging track, sports zone and greenery and local culture. To ensure perennial flow into the river Gomti, it would be connected to the Sharda/Sharda tributary.

It may be pointed out here that a timeline of two years was set to complete all construction works related to the Gomti riverfront project. The irrigation department officers said all efforts were underway to ensure that the project is completed in the next six months.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *