एसआरएस ग्रुप ऑफ कंपनीज के चेयरमैन अनिल जिदल

SRS Group of companies chairman Anil Jindal bought gold from investors

हरियाणा के फरीदाबाद में एसआरएस के चेयरमैन ने निवेशकों के रुपयों से खरीदा था सोना

रियल एस्टेट, ज्वैलरी, खनन, सिनेमा सहित विभिन्न कारोबार से जुड़े एसआरएस ग्रुप ऑफ कंपनीज के चेयरमैन अनिल जिदल व उसके कारोबारी दोस्तों ने निवेशकों के रुपयों से बड़ी मात्रा में सोना खरीदा था। एसआरएस ग्रुप द्वारा निवेशकों के रुपये हड़पने के मुकदमे की जांच कर रही पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने अनिल जिदल सहित छह आरोपितों को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जेबी गुप्ता की अदालत में पेश किया। रिमांड की मांग करते हुए पुलिस ने अदालत को सोना खरीदने से संबंधित जानकारी दी।

पुलिस ने अदालत को बताया कि आरोपितों ने दिल्ली के एक बैंक से यह सोना खरीदा था। पुलिस ने सोना खरीदारी के लिए दी गई रकम का स्त्रोत पता करने के लिए तीन दिन की रिमांड की जरूरत बताई। अदालत ने दो दिन की रिमांड मंजूर की। सभी आरोपित निवेशकों के रुपये हड़पने के विभिन्न मामलों में करीब दो साल से जेल में हैं। पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने सेक्टर-31 थाने में दर्ज मुकदमा नंबर 260 की जांच के लिए आरोपितों की रिमांड ली है। यह मुकदमा अमन नरूला सहित 15 निवेशकों की शिकायत पर एसआरएस ग्रुप के चेयरमैन अनिल जिदल, नानक चंद, बिसन बंसल, राजेश सिगला, विनोद जिदल व विनोद गर्ग के खिलाफ दर्ज हुआ था।

निवेशकों ने मुकदमे में कहा है कि आरोपितों ने साल 2012 में सेक्टर-87 में एक प्रोजेक्ट शुरू किया था। चार साल में यह प्रोजेक्ट पूरा करने का वादा किया था। निवेशकों ने करीब 19 करोड़ रुपये जमा कराए थे। उन्हें फ्लैट नहीं मिले और राशि भी वापस नहीं हुई। आर्थिक अपराध शाखा ने अदालत को बताया कि इन रुपयों से आरोपितों ने सोना खरीदा था। इस आधार पर अदालत ने रिमांड मंजूर कर ली। अनिल जिदल ने लगाया प्रताड़ित करने का आरोप रिमांड के दौरान पेश हुए आरोपित अनिल जिदल ने आर्थिक अपराध शाखा द्वारा प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। अदालत ने उनकी बात सुनते हुए मंजूरी दी कि पूछताछ के दौरान उनका वकील आसपास मौजूद रह सकता है, मगर वकील को थोड़ी दूरी बनाकर रखनी होगी।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *