मुख्यमंत्री से 18 फरवरी, 2016 को रिहा किए गए वयोवृद्ध कैदी श्री वरियाम सिंह की रिहाई के लिए आभार व्यक्त करने आए सिख प्रतिनिधिमण्डल के साथ।

Sikh Organizations express gratitude towards Chief Minister Akhilesh Yadav for release of aged prisoner Mr. Waryam Singh

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से 18 फरवरी, 2016 को रिहा किए गए वयोवृद्ध कैदी श्री वरियाम सिंह की रिहाई के लिए आभार व्यक्त करने आए सिख प्रतिनिधिमण्डल के साथ।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से 18 फरवरी, 2016 को रिहा किए गए वयोवृद्ध कैदी श्री वरियाम सिंह की रिहाई के लिए आभार व्यक्त करने आए सिख प्रतिनिधिमण्डल के साथ।

उत्तर प्रदेश सरकार की संस्तुति पर सेन्ट्रल जेल बरेली में टाडा कानून के तहत सजा काट रहे वयोवृद्ध कैदी श्री वरियाम सिंह को जेल में अच्छे आचरण, 25 वर्षो के दौरान पैरोल

न लेने तथा बेदाग छवि के चलते रिहा कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के प्रयासों के चलते 70 वर्षीय कैदी श्री वरियाम सिंह को रिहा किए जाने पर विभिन्न सिक्ख संगठनों ने खुशी जाहिर की है। प्रदेश के कारागार मंत्री श्री बलवंत सिंह रामूवालिया के नेतृत्व में आए सिक्ख प्रतिनिधियों ने श्री यादव से आज उनके सरकारी आवास पर भेंटकर उन्हें धन्यवाद दिया।

मुलाकात के दौरान श्री यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार लोकतांत्रिक होने के साथ ही हरेक को इन्साफ दिलाने में पूरा भरोसा रखती है। श्री वरियाम सिंह का प्रकरण सामने आते ही उन्होंने श्री सिंह की जेल से रिहाई के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने कारागार मंत्री श्री बलवंत सिंह रामूवालिया को निर्देश दिए कि इस तरह के सभी प्रकरणों का शीघ्र संज्ञान लेकर उन पर समुचित विधिक प्रक्रिया का अनुपालन करते हुए न्यायोचित कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

पिछले दिनों प्रदेश के कारागार मंत्री श्री बलवंत सिंह रामूवालिया के नेतृत्व में सिखों के एक प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री से मिलकर श्री वरियाम सिंह को रिहा कराने का अनुरोध किया था। उन्होंने सजायाफ्ता कैदी के अच्छे चाल-चलन को देखते हुए रिहा कराने हेतु हर सम्भव सहायता देने का आश्वासन दिया था।

श्री वरियाम सिंह को 17 दिसम्बर, 2015 को पहली बार पैरोल पर छोड़ा गया। इसके पश्चात 16 फरवरी, 2016 को जेल से रिहा कर दिया गया है। इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री श्री राजेन्द्र सिंह चैधरी सहित सिख संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि टाडा अधिनियम के तहत 26 वर्षाें से सेन्ट्रल जेल, बरेली में सजा काट रहे श्री वरियाम सिंह की रिहाई के लिए विश्व भर के सिख समाज के लोग समय-समय पर केन्द्र तथा राज्य सरकार से मांग करते रहे हैं। यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र संघ, इंग्लैण्ड, कनाडा, जर्मनी, आस्ट्रेलिया आदि देशों में बसे सिख संगठनों के लोगों ने इनकी रिहाई की पुरजोर मांग की थी।

इस तरह के प्रकरणों का शीघ्र संज्ञान लेकर समुचित विधिक प्रक्रिया का अनुपालन करते हुए न्यायोचित कार्रवाई सुनिश्चित की जाए: मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव

Such cases should be brought to light and justice ensured after following legal processes: Chief Minister Akhilesh Yadav

Based on the recommendation of the Uttar Pradesh Government an aged prisoner Mr. Waryam Singh, convicted under TADA, has been released from the Central Jail, Bareilly for good conduct, unblemished image and taking no parole in the past 25 years.

Various Sikh groups and organizations have hailed the efforts of Chief Minister Akhilesh Yadav, whose efforts resulted in the release of the 70-yearold Mr. Waryam Singh. A delegation led by State’s Jail Minister Mr. Balwant Singh Ramoowalia met the Chief Minister at his 5, Kalidas Marg residence and thanked him on the issue.

During the meeting, Mr. Yadav said that while following the democratic path, Samajwadi government also believed in justice for all. The moment the case of Mr. Waryam Singh was brought to his notice, the Chief Minister informed, he asked officials to take necessary steps to ensure that Mr. Singh walked out of the prison at the earliest and he also directed the Jail Minister Mr. Ramoowalia to note of all such cases and ensure that following the legal path, justice was done to such prisoners.

Some time back, a delegation led by Mr. Ramoowalia had called on the Chief Minister seeking early release of Mr. Waryam Singh after which, keeping in mind his good conduct, Mr. Yadav had assured of all help from his side. Mr. Waryam Singh for the first time was released on parole on December 17, 2015.

After this he was released from jail on February 16, 2016. During the meeting, also present was Political Pension Minister Mr. Rajendra Chowdhary and representatives of various Sikh organizations. It may be pointed out here that serving sentence in the Central Jail, Bareilly for the last 26 years under TADA, Mr. Waryam Singh’s release has been demanded from time to time by Sikh organizations from around the world.

His release was also demanded by people of various Sikh organizations in England, UNO, Canada, Germany, Australia and many other countries.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *