अखिलेश बनाम शिवपाल

Shivpal Singh Yadav giving blessing to nephew Abhishek Yadav

पंचायत चुनाव से पहले ‘भतीजे’ अखिलेश यादव पर मेहरबान हुए चाचा शिवपाल यादव, कहा- सपा-प्रसपा एक हों

UP Panchayat Election: शिवपाल सिंह यादव ने अपने बड़े भाई के बेटे अभिषेक यादव को पंचायत चुनाव में जिताने की अपील की. सार्वजनिक रूप से कहा कि इसी चुनाव के साथ परिवार की एकता की भी शुरुआत हो.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Yadav) अपने एक भतीजे अखिलेश यादव से भले नाराज हों, लेकिन दूसरे को आशीर्वाद देते हैं. शिवपाल यादव ने अपने भतीजे अभिषेक यादव को फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष बनने का आशीर्वाद दिया है. छोटे भतीजे अभिषेक को चाचा शिवपाल का साथ मिल गया है. दरअसल, शिवपाल सिंह यादव अपने निर्वाचन क्षेत्र जसंवतनगर में जिला पंचायत सदस्य पद की उम्मीदवार सीमा यादव के समर्थन में आयोजित एक पंचायत सभा को संबोधित कर रहे थे. इसी दौरान उन्होंने ऐलान किया कि वो चाहते हैं कि एक बार फिर से अभिषेक जिला पंचायत अध्यक्ष बनें.

शिवपाल ने कहा कि वे ऐसा चाहते हैं कि जिला पंचायत चुनाव में सपा और प्रसपा की एक हो जाए. उन्होंने अपने भतीजे निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष अभिषेक यादव को फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाने की अपील की. इसी चुनाव से परिवार के एकता की शुरुआत हो. प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह ने समाजवादी पार्टी एवं परिवार में फिर से एक होने की पहल करते हुए अपने भतीजे अभिषेक यादव को फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने की अपील की. उनका कहना है कि उनकी मंशा जिला पंचायत चुनाव मिलकर सपा- पीएसपी एक साथ लड़े वे यह नहीं चाहते है कि विरोधी पार्टी का कोई जिला पंचायत अध्यक्ष बने.

उनका कहना है कि 2022 में हम अलग फैसला ले लेंगे. 2015 में शिवपाल सिंह के बड़े भाई राजपाल यादव के बेटे अभिषेक यादव समाजवादी पार्टी से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीत कर आए थे. उसके बाद इटावा के 24 जिला पंचायत सदस्यों ने सर्वसम्मति से अभिषेक यादव को वोट कर जिला पंचायत अध्यक्ष चुना था. शिवपाल सिंह की विधानसभा जसवंत नगर से 9 जिला पंचायत सदस्य चुनकर आते हैं जो कि इटावा जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

1987 से समाजवादी पार्टी का कब्जा

अब जबकि शिवपाल सिंह समाजवादी पार्टी से अलग होकर अपनी नई पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बना चुके हैं. अब ऐसे में चाचा शिवपाल के आशीर्वाद भतीजे अभिषेक को मिलना कई मायने की ओर भी इशारा कर रहा है. बता दें कि इटावा की जिला पंचायत सीट पर वर्ष 1987 से समाजवादी पार्टी का कब्जा बरकरार है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सदस्य रामगोपाल यादव, प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव और पूर्व सांसद राम सिंह शाक्य जिला परिषद अध्यक्ष के रूप में इस पद पर काबिज रहे. वर्ष 1995 में पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित की गई तो विधायक महेंद्र सिंह राजपूत अध्यक्ष बने.

होली के अवसर पर सैफई में अखिलेश और शिवपाल का अलग-अलग मंच सजा, मुलायम नहीं हुए शामिल

बेशक शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन करके अपनी अलग रहा चुन ली हो लेकिन अभी तक उन्होंने समाजवादी पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया है

देश में चर्चा के केंद्र में रहने वाली सैफई (Safai) की होली (Holi) अब दो खेमों में बट गई है. एक खेमे में जहां मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के भाई शिवपाल सिंह यादव हैं तो दूसरी ओर सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), भाई रामगोपाल यादव और परिवार के तमाम छोटे-बड़े राजनीतिक, गैर राजनीतिक सदस्य खड़े हुए दिखाई दे रहे हैं. इस बार होली पर मुलायम की गैर मौजूदगी में अखिलेश और शिवपाल का अलग-अलग मंच सजा है

जब सैफई में मंच पर प्रो.रामगोपाल यादव पहुंचे तो परिवार के सबसे बड़े होने के नाते अखिलेश यादव ने रामगोपाल के पैर छूकर आर्शीवाद लिया. सबसे खास बात तो यह रही कि इससे पहले हमेशा समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और महासचिव प्रो.रामगोपाल यादव का संबोधन हुआ करता था वह संबोधन आज नहीं सुनाई दिया. शिवपाल ने भले ही मुलायमी आंगन की होली में इस दफा शामिल होना मुनासिब नहीं समझा जब कि इससे पहले पिछले साल एक मंच पर अखिलेश- शिवपाल सिंह थे. लेकिन तब मुलायम मौजूद रहे थे. लेकिन अब की बार मुलायम की गैर मौजूदगी में अखिलेश ओर शिवपाल का अलग- अलग मंच सजा है.

जीवन में जोश और उमंग पैदा करने वाले रंग के पर्व होली के मौके पर मुलायम कुनबा अपने आंगन में एक साथ जमा हुआ करता था. वह आज पूरी तरह से अलग-थलग नजर आया. मुलायम के आंगन मे होली जश्न में जहां अखिलेश, रामगोपाल, धर्मेद्र, तेजप्रताप, अक्षय, अभिषेक, अनुराग और कार्तिकेय दिखाई दिये वहीं शिवपाल अपने बेटे आदित्य समर्थकों क साथ एसएस मेमोरियल में मौजूद थे.

शिवपाल ने स्कूल में मनाई होली

लंबे अरसे से अपने भतीजे अखिलेश यादव से वैचारिक मतभेद के चलते प्रगतिशील समाजवदी पार्टी का गठन कर चुके शिवपाल सिंह यादव ने होली के मौके पर इस दफा एक नई इबारत लिख डाली है. उन्होंने अपने पिता सुधर सिंह के नाम पर स्थापित किए एसएस मेमोरियल स्कूल में होली का जश्न अपने समर्थकों के साथ में मनाया. इससे पहले शिवपाल सिंह यादव मुलायमी आंगन में होली का जश्न मनाने आते रहे थे.

समाजवादी पार्टी से विधायक हैं शिवपाल

बेशक शिवपाल सिंह यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन करके अपनी अलग रहा चुन ली हो लेकिन अभी तक उन्होंने समाजवादी पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया है. शिवपाल सिंह यादव अपनी परंपरागत जसवंतनगर विधानसभा से समाजवादी पार्टी से विधायक निर्वाचित है.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *