Flat

Sever problem in Greater Faridabad

नहरपार ग्रेटर फरीदाबाद के लिए आफत बनी सीवर समस्या

नहरपार ग्रेटर फरीदाबाद में सीवर की समस्या सालों से बनी हुई है। आए दिन किसी न किसी सोसायटी में सीवर जाम की शिकायतें आती रहती हैं। ग्रेटर फरीदाबाद में जगह-जगह गंदे पानी के तालाब बन गए हैं। जिसकी वजह से भूजल भी दूषित हो रहा है। शासन-प्रशासन और बिल्डरों की लापरवाही का खामियाजा यहां रहने वाले हजारों परिवार को भुगतना पड़ रहा है। फिलहाल यहां की प्रणायाम सोसायटी के बाहर सीवर जाम होने से लोग परेशान हैं। सीवर का पानी कई दिन से सड़क पर जमा हुआ है। इसकी बदबू से लोगों का यहां से निकलना मुश्किल हो रहा है।

इस बारे में स्थानीय लोगों ने हुडा अधिकारियों को सूचित किया लेकिन अभी तक समाधान नहीं हो सका है। सोसायटीवासी अंशुमन कौशिक ने बताया कि अक्सर सीवर का पानी यहां जमा हो जाता है। इससे प्रदूषण भी बढ़ रहा है। इस बारे में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों को संज्ञान लेना चाहिए। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के कार्यकारी अभियंता राजीव शर्मा ने बताया कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है। जल्द ही सीवर समस्या का समाधान कर दिया जाएगा।

सूरजकुंड अंडरपास निर्माण की प्रक्रिया शुरू

सूरजकुंड चौराहे पर अंडरपास व ओवरब्रिज बनाने की प्रक्रिया शुरू हो रही है। इस पर काम कर रही एजेंसी ने योजना की रूपरेखा तैयार कर ली है। अब लोक निर्माण विभाग के उच्च अधिकारियों के समक्ष इस रूपरेखा को प्रस्तुत किया जाएगा। उसके बाद तय होगा कि योजना में कुछ बदलाव होना है या नहीं। इसके बाद इसके टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे। लोक निर्माण विभाग की ओर से योजना पर काम के लिए सर्वे कराया गया और सलाहकार एजेंसी से ही इसका खाका तैयार कराया गया है। इस चौराहे से एक रास्ता बदरपुर बॉर्डर की तरफ जाता है व दूसरा कर्ण सिंह शूटिग रेंज की तरफ जाना है। एक रास्ते के लिए अंडरपास व दूसरे के लिए ओवरब्रिज बनेगा। ओवरब्रिज व अंडरपास बनने से हजारों लोगों को राहत मिलेगी।

बता दें कि सूरजकुंड रोड पर चार्मवुड विलेज के पास चौराहा है। दिल्ली की तरफ जाते समय यह जिले का अंतिम चौराहा है। सूरजकुंड में अंतरराष्ट्रीय मेले सहित अन्य राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम होते रहते हैं। सूरजकुंड मेले के दौरान भी इस चौराहे से वाहनों का आवागमन बहुत बढ़ जाता है। इस वजह से यहां जाम लगता है। ऐसे में चौराहे को पैदल पार करना मुश्किल हो जाता है। योजना को बेहतर रूप देने के लिए निजी एजेंसी से सर्वे कराया जा चुका है। सर्वे एजेंसी ने हमें रिपोर्ट सौंप दी है। अब सर्वे एजेंसी के अधिकारी जल्द हमारे उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट विस्तार से बताएंगे। -राहुल सिंह, कार्यकारी अभियंता, लोक निर्माण विभाग।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *