Akhilesh Yadav with Mamata Banerjee

Samajwadi Party President Akhilesh Yadav meets West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee

Akhilesh Yadav with Mamata Banerjee
Akhilesh Yadav with Mamata Banerjee

कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिले अखिलेश, मोर्चा की अटकलें तेज

समाजवादी पार्टी (सपा) नेता अखिलेश यादव ने शनिवार को कोलकाता में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की। दोनों नेताओं की मुलाकात से अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ मोर्चा बनने की अटकलें तेज हो गई हैं।

अखिलेश अपनी पार्टी के राज्य सम्मेलन के सिलसिले में कोलकाता पहुंचे थे। यहां वे ममता बनर्जी के आवास पर जाकर उनसे मिले और कहा कि सांप्रदायिक ताकतों से लड़ाई में समाजवादी पार्टी उनके साथ है। सपा प्रमुख ने कहा कि सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियों को एकजुट होने की जरूरत है।

यूपी निकाय चुनाव में भाजपा की जीत का जिक्र करते हुए अखिलेश ने कहा कि भगवा पार्टी को जीत वहां मिली है जहां चुनाव ईवीएम से हुए, लेकिन जहां बैलेट पेपर से मतदान हुआ वहां उसका प्रदर्शन बढ़िया नहीं रहा। सपा नेता ने कहा कि जहां ईवीएम से चुनाव हुए वहां भाजपा को 46 फीसदी मत मिले, लेकिन जहां बैलेट पेपर से चुनाव हुआ वहां उसे सिर्फ 15 फीसदी मत हासिल हुए।

यादव ने कहा कि भाजपा ने यूपी विधानसभा चुनाव में दो-तिहाई बहुमत हासिल किया था, लेकिन निकाय चुनाव में उसे उस तरह की सफलता नहीं मिली। लेकिन भाजपा ऐसे प्रचारित कर रही है जैसे पूरा प्रदेश उसके रंग में रंग गया हो। अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने जो रास्ता अख्तियार किया है उससे देश की जनता के बीच खुशियां नहीं आ सकती।

Samajwadi Party chief and former Uttar Pradesh chief minister Akhilesh Yadav on Saturday met his West Bengal counterpart Mamata Banerjee at her Kalighat residence here on Saturday and said he would support Trinamool Congress and other parties fighting for secularism in the country.

Akhilesh, who was in the city to attend the eighth state conference of his party, discussed with Mamata bringing all opposition parties together for an anti-BJP front before the 2019 election. He also raised the issue of EVM malfunctioning and challenged the BJP to use ballot papers in the next general election, just hours after Mayawati made a similar demand.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *