मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से एक महिला को सम्मानित करते हुए।

Role models rise from rural Uttar Pradesh: Akhilesh Yadav

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से एक महिला को सम्मानित करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से एक महिला को सम्मानित करते हुए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा कि देश और प्रदेश की खुशहाली के लिए गांवों का खुशहाल होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि जी0डी0पी0 जैसे आंकड़ों से खुशहाली को नापा नहीं जा सकता। इसका पता सिर्फ किसानों की खुशहाली से ही लग सकता है। प्रदेश सरकार किसानों और गांव के लोगों के चहुँमुखी विकास के सारे प्रयास कर रही है और इसके लिए विभिन्न प्रकार की जनहितकारी योजनाएं भी लागू की जा रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की गरीब महिलाओं को आर्थिक मदद मुहैया कराने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा समाजवादी पेंशन योजना लागू की गई है, जिसके अन्तर्गत 45 लाख परिवारों की महिला मुखिया को 500 रुपये प्रतिमाह की आर्थिक मदद सीधे उनके खातों में पहुंचाई जा रही है।

मुख्यमंत्री ने यह विचार आज यहां ‘गांव कनेक्शन’ साप्ताहिक अखबार की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। इस साप्ताहिक अखबार के संस्थापक श्री नीलेश मिसरा की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि इस प्रकार के अखबार की कल्पना काफी साहसिक कार्य है, जिसे वे अच्छी तरह से पूरा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की विभिन्न समस्याओं एवं मामलों पर केन्द्रित यह उत्तर प्रदेश ही नहीं भारत का एक मात्र अखबार है, जिसमें गांव के लोग अपनी भागीदारी कर रहे हैं।

श्री यादव ने कहा कि पूरी तरह से गाँव और ग्रामीण जीवन के सरोकारों से जुड़ा अखबार शुरू करना, एक नयी और अनोखी पहल है। यह समाचार पत्र परम्परागत अखबार से काफी अलग है। जैसा कि नाम से ही पता लगता है कि यह अखबार गाँव, ग्रामीण जीवन तथा खेती-किसानी में हो रहे प्रयासों, गतिविधियों, बदलावों, चिन्ताओं को सबके सामने लाने का काम कर रहा है। और इस तरह से जन-जीवन के एक बड़े, व्यापक और प्रायः उपेक्षित पहलू से पाठकों को परिचित करा रहा है। इस तरह काम करते हुए ‘गांव कनेक्शन’ ग्रामीण इलाकों में, ‘स्वयं प्रोजेक्ट’ के माध्यम से छात्र-छात्राओं के रूप में जो सतर्क और जागरूक वर्क फोर्स तैयार कर रहा है। वह भी इस समाचार-पत्र की एक बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी। क्योंकि ये छात्र-छात्राएं ही भविष्य में गांव व समाज में सकारात्मक बदलाव लाकर देश की तस्वीर बदलने में भी सहायक होंगे।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से सम्मानित प्रतिभाशाली ग्रामीण महिलाओं के साथ।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से सम्मानित प्रतिभाशाली ग्रामीण महिलाओं के साथ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘गांव कनेक्शन’ की एक ज्यादा बड़ी उपलब्धि यह भी है कि इसने अपना एक खास पाठक वर्ग बनाया है। जो न केवल अखबार का हर हफ्ते इन्तजार करते हैं, बल्कि अखबार की खबरों पर चर्चा भी करते हैं। उपभोक्तावाद के मौजूदा दौर में ‘गांव कनेक्शन’ जैसे अखबार की शुरुआत यकीनन काफी जोखिम भरा और चुनौतीपूर्ण फैसला था। लेकिन इसकी सफलता ने यह साबित कर दिया है कि अच्छे इरादे के साथ लगन और मेहनत से किया गया प्रयास कामयाब ही होता है।

श्री यादव ने कहा कि समाजवादियों का मानना है कि देश और प्रदेश की तरक्की और खुशहाली का रास्ता गाँवों की तरक्की और खुशहाली से जुड़ा हुआ है। गाँवों के विकास के बिना विकास अधूरा ही साबित होगा। इसलिए समाजवादी सरकार गाँवों में बिजली, सड़क, पानी, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधा की व्यवस्था को लगातार बेहतर बनाने का काम कर रही है। देश और प्रदेश का भविष्य गाँव, खेती, महिलाओं और नौजवानों पर होने वाले निवेश और उन्हें मिलने वाले अवसरों पर निर्भर करता है। ये क्षेत्र और लोग प्रदेश की समाजवादी सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल हैं। खुशी की बात है कि ‘गाँव कनेक्शन’ का ध्यान भी इस तरफ है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को मुफ्त सिंचाई और उनके कर्ज माफी, समाजवादी सरकार के शुरुआती फैसलों में शामिल हैं। खेती के लिए खाद और बीज की सुचारू उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है। कृषि यंत्रों को सस्ती कीमत पर मुहैया कराने की योजनाएं चलायी जा रही हैं। कामधेनु डेयरी योजना के माध्यम से गाँवों में उन्नत नस्ल के दुधारू पशुओं की संख्या बढ़ी है। परिणामस्वरूप दूध का उत्पादन भी बढ़ा और पशुपालकों की खुशहाली में इजाफा हुआ। साथ ही, ग्रामीण इलाकों में रोजगार के अवसर भी बढ़े हैं। नौजवानों को बेहतर रोजगार के लिए तैयार करने के मकसद से राज्य सरकार द्वारा कौशल विकास मिशन चलाया जा रहा है।

श्री यादव ने कहा कि 15 लाख छात्र-छात्राओं को लैपटाॅप वितरित करने से आधुनिक तकनीक के प्रति खासतौर पर गरीब और किसान परिवारों के बच्चों की झिझक दूर हुई है। कन्या विद्या धन योजना से गरीब परिवारों की बालिकाएं उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित हुई हैं। ‘108’ समाजवादी स्वास्थ्य सेवा तथा ‘102’ नेशनल एम्बुलेन्स सर्विस के माध्यम से जरूरतमन्दों को लाभ मिला है। प्रदेश सरकार बड़े पैमाने पर सोलर पावर को बढ़ावा दे रही है, जिसका लाभ ग्रामीण जनता को मिल रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपदों को 4-लेन सड़कों से जोड़ने, मेट्रो रेल के विकास, नए बिजली घरों तथा सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों का निर्माण, हाई-टेक सिटीज का विकास, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का निर्माण जैसी परियोजनाएं भी राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही हैं। इन परियोजनाओं के पूरेे होने पर भी गाँवों को फायदा पहुँचेगा। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के किनारे विकसित होने वाली मण्डियों से किसानों को अपनी उपज का बेहतर मूल्य मिलेगा। प्रदेश की समाजवादी सरकार प्रदेश के समावेशी और सन्तुलित विकास के लिए लगातार काम कर रही है।

श्री यादव ने कहा कि यदि हम सचमुच खुशहाली और विकास चाहते हैं तो हमें गांवों पर अपना ध्यान केन्द्रित करना होगा, क्योंकि देश के अधिकांश लोग गांवों में ही बसते हैं और उन्हें हम अनदेखा नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि इस अखबार को यह श्रेय अवश्य दिया जाना चाहिए कि इसके माध्यम से ग्रामीणों के विभिन्न मुद्दे सामने आ रहे हैं और उनका समाधान भी हो रहा है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से एक महिला को सम्मानित करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 02 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में साप्ताहिक समाचारपत्र ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित ‘स्वयं अवाड्र्स’ से एक महिला को सम्मानित करते हुए।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने ‘गांव कनेक्शन’ द्वारा आयोजित  ‘स्वयं अवार्ड्स’ का शुभारम्भ करते हुए वर्ष 2015 के लिए प्रतिभाशाली ग्रामीण महिलाओं को सम्मानित किया। इन महिलाओं ने अपनी कुशलता, हिम्मत और हौसले से न केवल अपनी राह बनायी है, बल्कि दूसरे लोगों के लिए एक मिसाल भी कायम की है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने दो किताबों-’यूपी की कहानियां’ और ‘बेबाक’ का विमोचन भी किया। ’यूपी की कहानियां’ किताब उत्तर प्रदेश में आम लोगों के जीवन के बदलाव पर आधारित है, ’बेबाक’ नाम की किताब हिम्मती और जुझारू लड़कियों पर केन्द्रित है। इस मौके पर श्री यादव को गांव कनेक्शन अखबार की तरफ से ‘सरकार को सुझाव’ नामक एक पुस्तिका भी भेंट की गई, जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों की समस्याएं एवं उनका समाधान सुझाया गया है। मुख्यमंत्री ने इस पर अमल लाने का आश्वासन दिया। उन्होंने आज सम्मानित की गई सभी लड़कियों/महिलाओं को रानी लक्ष्मी बाई सम्मान कोष से सम्मानित करने का भी आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री को ‘गांव कनेक्शन’ की तरफ से एक ‘कैरिकेचर’ भी भेंट किया गया।

कार्यक्रम को मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न विकास कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला। उन्होंने ‘सरकार को सुझाव’ पुस्तिका में उल्लिखित समस्याओं के त्वरित निदान का भी आश्वासन दिया। कार्यक्रम को सुप्रसिद्ध फिल्मकार श्री महेश भट्ट ने भी सम्बोधित किया।
इस अवसर पर प्रमुख सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, मीडियाकर्मी, पुरस्कार प्राप्त करने वाली लड़कियों के परिजन, प्रदेश के विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में आए विद्यार्थीगण तथा गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

One Reply to “Role models rise from rural Uttar Pradesh: Akhilesh Yadav”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *