कांग्रेस

Punjab civic polls 2017 LIVE UPDATES: Counting underway, Congress heading for clean sweep

कांग्रेस
कांग्रेस

पंजाब निकाय चुनावः तीनों निगमों में कांग्रेस बड़ी जीत की ओर, जश्न शुरु

पंजाब में कांग्रेस की सरकार आने के नौ महीने बाद करवाए गए नगर निगमों और नगर कौंसलों के चुनाव में कांग्रेस ने पूरी तरह से बाजी मार ली है। मुल्लांपुर दाखा नगर काउंसिल की सभी 13 सीटों पर कांग्रेस ने कब्जा कर लिया है। अकाली दल-भाजपा के खाते में एक सीट भी नहीं गई है। छिटपुट घटनाओं के बीच मुल्लापुर नगर काउंसिल में 66 प्रतिशत मतदान हुआ।

राजपुरा: घनौर नगर पंचायत के 6 वार्डों के चुनाव शांतिपूर्वक संपन्न हो गए। देर शाम आए नतीजों में कांग्रेस के पांच और भाजपा के एक प्रत्याशी ने जीत दर्ज कर अपनी-अपनी खुशी का इजहार किया। इससे पहले कांग्रेस के पांच प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित किए जा चुके हैं। इसके चलते कांग्रेस ने भारी जीत प्राप्त करते हुए 11 में से 10 वार्डों पर कब्जा कर अकाली दल और आम आदमी पार्टी का सूपड़ा तक साफ कर दिया।

लुधियाना: श्री माछीवाड़ा साहिब नगर काउंसिल पर दस वर्ष बाद कांग्रेस अपना कब्जा जमा लिया है। यहां के कुछ 15 वार्ड में से 12 पर कांग्रेस ने अपना परचम लहराया है। एक सीट पर अकाली दल, एक पर भाजपा और एक पर आजाद उम्मीदवार विजयी रहे।

जालंधर: शाहकोट से अकाली दल के विधायक अजीत सिंह कोहाड़ के गढ़ में अकालियों का सूपड़ा ही साफ हो गया। नगर पंचायत शाहकोट की 13 में से 12 सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। वहीं एक आजाद उम्मीदवार जीता। शाहकोट में से शिअद-भाजपा और आप एक भी सीट जीत नहीं पाए। नगर पंचायत शाहकोट में 72 फीसदी वोटिंग हुई।

बरनाला: नगर पंचायत हंडियाया में रविवार को 85 प्रतिशत वोटिंग हुई। देर शाम घोषित कर दिया गया। यहां की कुल 13 सीटों में से कांग्रेस को सात, शिरोमणि अकाली दल को तीन एवं भाजपा को भी तीन सीटों पर जीत मिली है।

उधर, जालंधर के देहात क्षेत्र में पड़ते गोराया नगर काउंसिल में कांग्रेस का कब्जा कायम हो गया। गोराया की 13 सीटों में से 10 सीटों पर कांग्रेसी उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। वहीं भाजपा व शिअद का 1-1 उम्मीदवार जीता। एक आजाद उम्मीदवार ने जीत हासिल की। जानकारी के अनुसार नगर काउंसिल गोराया में 74 फीसदी वोटिंग हुई। इसके अलावा नगर काउंसिल भोगपुर में 77 फीसदी, नगर पंचायत बिलगा में 73 फीसदी और नगर पंचायत शाहकोट में 72 फीसदी वोटिंग हुई।

जालंधर: कांग्रेस को प्रचंड बहुमत, 80 में से 66 सीटों पर कब्जा, खाता भी नहीं खोल पाई ‘आप’

कांग्रेस को जालंधर नगर निगम में प्रचंड बहुमत मिला है। कांग्रेस ने 82.5 फीसदी सीट जीतकर नगर निगम जालंधर पर अपना कब्जा कर लिया है। कांग्रेस की दस साल बाद नगर निगम में वापसी होने जा रही है। कांग्रेस ने 80 में से 66 सीटें जीती जबकि भाजपा आठ व शिअद चार और दो आजाद उम्मीदवार ही जीत पाये जबकि आम आदमी पार्टी अपना खाता भी नहीं खोल पायी।

2002 में कांग्रेस का जालंधर नगर निगम पर कब्जा था लेकिन 2007 व 2012 में शिअद भाजपा ने निगम पर अपना कब्जा कर लिया। 2012 में जालंधर में 60 वार्ड थे, जिसमें से कांग्रेस के 21 पार्षद थे जबकि शिअद व भाजपा को सपष्ट बहुमत था। इस बार 2017 में 60 के स्थान पर 80 वार्ड किये गए और कांग्रेस ने 66 वार्डों पर अपना कब्जा कर लिया। जालंधर में रविवार को 58 प्रतिशत मदतान हुआ। शाम चार बजे वोटिंग खत्म हुई और इसके साथ ही पोलिंग स्थलों पर गिनती शुरू हो गयी।

साढ़े चार बजे कांग्रेस के पक्ष में रूझान आने शुरु हो गए थे और कांग्रेस का हाथ उपर ही रहा। फाइनल रिजल्ट में कांग्रेस को 66 सीट मिली। कांग्रेस में इस बार अधिकतर नए चेहरों के अलावा महिलाएं जीती हैं। सरकार की तरफ से 50 फीसदी सीट महिलाओं के लिए आरक्षित की गई थी। कांग्रेस की महिला प्रधान डॉ. जसलीन सेठी, विधायक सुशील रिंकू की पत्नी डॉ. सुनीता रिंकू, विधायक राजिंदर बेरी की पत्नी उमा बेरी के अलावा 10 साल तक निगम में विपक्ष के नेता रहे जगदीश राज राजा व उनकी पत्नी अनिता राजा चुनाव जीत गए हैं। इनके वार्ड में कांग्रेस को जबरदस्त वोट मिले हैं।

Election results have been very good, we are very pleased. You can’t get a better result than this. Out of three corporations, we have swept polls and won all of them: Chief Minister Captain Amarinder Singh on Punjab civic polls

Congress workers celebrate as the party leads in Amritsar Municipal Corporation election, Navjot Singh Sidhu says “this is the first victory that Rahul Gandhi has tasted as Congress President, third victory in our Captain’s turban”

राहुल के अध्यक्ष बनते ही कांग्रेस ने पंजाब में रचा इतिहास, दूर-दूर तक कोई नहीं

कांग्रेस ने नगर निगम चुनाव में इतिहास रच दिया है। रविवार को तीन निगमों के लिए हुए चुनाव में पार्टी ने शानदार जीत दर्ज की। सीएम के शहर पटियाला में पार्टी क्लीन स्वीप की तरफ बढ़ रही है। 60 में से 58 में जीत चुकी है, दो का नतीजा आना बाकी है।

वहीं, जालंधर और अमृतसर में भी उसने दमदार वापसी की। 29 काउंसिलों व पंचायतों में भी कांग्रेस का ही दबदबा रहा। पटियाला में फायरिंग, पथराव और लाठीचार्ज हुआ। इस हुल्लड़बाजी में वोट डालने आए एक व्यक्ति की मौत हो गई। जबकि, जालंधर और अमृतसर में चुनाव शांतिपूर्ण रहा। उम्मीद के मुताबिक मुुकाबला कांग्रेस और शिअद-भाजपा के बीच रहा, आम आदमी पार्टी खाता भी नहीं खोल पाई।

पटियाला के कई वार्डों में सुबह से ही हंगामा शुरू हो गया था। वार्ड साठ में गोली चली, पर कोई जख्मी नहीं हुआ। वार्ड 14 में अकालियों-कांग्रेसियों में जमकर पत्थर चले, जिसमें छह लोग घायल हो गए, पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। झड़प में पूर्व अकाली मेयर अमरिंदर बजाज की पगड़ी उतर गई। घग्गा नगर पंचायत के वार्ड बारह में कांग्रेसियों और अकालियों की झड़प के बीच वोट डालने आए बुजुर्ग की मौत हो गई।

जालंधर में भी कांग्रेस की आंधी चली। यहां 80 वार्डों में से 66 पर कांग्रेस का कब्जा हो गया। भाजपा को आठ, शिअद को चार वार्डों में ही जीत मिली। दो सीटों पर आजाद उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की। भाजपा के कई दिग्गजों का पत्ता साफ हो गया, दो-दो बार से जीतते आए पार्षद भी हार गए। माई हीरां गेट इलाके में एक बूथ पर तनाव के अलावां मतदान शांतिपूर्ण रहा।

अमृतसर में देर शाम तक 85 में से 80 वार्डों के नतीजे घोषित किए गए थे। जिनमें से कांग्रेस 52, शिअद-भाजपा छह-छह वार्डों में जीते। छह निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की। जिनमें दोनों पार्टियों के बागी भी शामिल हैं। मतदान शांतिपूर्ण रहा। यहां निकायमंत्री नवजोत सिद्धू की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी। अमृतसर में कांग्रेस के करनजीत सिंह रिंटू ने सबसे ज्यादा 4540 वोट से जीत दर्ज की।

——– कुल वार्ड — कांग्रेस – भाजपा – शिअद – आजाद
अमृतसर – 85 ——– 52 —- 6 —- 6 —- 6
जालंधर — 80 ——— 66 —- 8 —- 4 —- 2
पटियाला — 60 ——– 58 ——————
(पटियाला में 2 वार्डों के नतीजे आने बाकी)

‘लोकतंत्र केलिए ब्लैक संडे’

नतीजों ने लगाई कांग्रेस की नीतियों पर मोहर – सीएम

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि निकाय चुनाव के नतीजों ने कांग्रेस की नीतियों पर मोहर लगाई है। वहीं, विरोधियों के झूठे प्रचार को नकारा है। उन्होंने लोगों को विरोधियों के झूठे प्रचार में न आने के लिए बधाई दी। सीएम ने कहा कि अकालियों ने लोगों को धमकाया, उन्हें वोट डालने को घर से न निकलने को कहा। लेकिन अकाली-भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा। पंजाब के लोगों ने इन पार्टियों को इनके किए गलत कामों की सजा दी है।

लोकतंत्र केलिए ब्लैक संडे : बादल

पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने निकाय चुनाव को लोकतंत्र को गहरी चोट बताया है। उन्होंने कहा कि पंजाब के इतिहास में यह दिन हमेशा ब्लैक संडे के तौर पर याद रखा जाएगा। यह पहला चुनाव है कि जब सीएम ने पहले ही दिन स्पष्ट कर दिया था कि यह चुनाव सरकारी मशीनरी और पार्टियों के बीच होगा। बहुत सी जगह तो विपक्षी दलों को एनओसी देकर लड़ने ही नहीं दिया गया। बादल ने चुनाव आयोग की भूमिका पर भी सवाल उठाया।

कांग्रेस के पक्ष में रहा आयोग : सुखबीर

शिअद सुप्रीमो सुखबीर बादल ने कहा कि प्रदेश चुनाव आयोग ने पूरी तरह कांग्रेस का साथ दिया। पार्टी इसकेखिलाफ हाईकोर्ट जाएगी और सीबीआई जांच की मांग करेगी। सुखबीर ने कहा कि पार्टी प्रदेश चुनाव आयुक्त जगपाल संधू को तुरंत पद से हटाने की भी मांग करेगी। अगर उनमें नैतिकता है तो उन्हें तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि उन्होंने लोगों का भरोसा तोड़ा है। शुरूआत से उनका रवैया पक्षपाती रहा। अकाली दल ने उनसे पांच बार मुलाकात की। पर एक बार भी इंसाफ नहीं मिला।

गुंडागर्दी में अकालियों को भी पीछे छोड़ा: आप

पार्टी के सूबा प्रधान भगवंत मान और सह-प्रधान अमन अरोड़ा ने कहा कि राजनीतिक गुंडागर्दी करने में कांग्रेस ने पिछली सरकार की दस साल की गुंडागर्दी को पीछे छोड़ दिया है।पटियाला समेत कई जगह हुई धक्केशाही ने बूथ लूटने वाले पुराने बिहार की याद ताजा कर दी है। उन्होंने कहा कि सीएम और स्थानीय निकायमंत्री नवजोत सिद्धू को इस बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए। अगर हार के डर से विरोधियों के कागज रद्द करवाने थे, बूथ लूटने थे तो चुनाव की क्या जरूरत थी। एक तानाशाही फरमान के जरिए अपने कांग्रेसियों को सीधे नामजद कर लेना चाहिए था। उन्होंने कहा कि बादलों की धक्केशाही और माफिया-राज से दुखी जनता कांग्रेस को लाई थी, पर गुंडागर्दी में कांग्रेसी पिछली सरकार को भी पीछे छोड़ने लगे हैं।

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *