मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन श्री रतन टाटा का स्वागत करते हुए।

Programmes jointly run by UP Government and Tata Trusts would bring about a change in the lives of the poor: CM Akhilesh Yadav

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन श्री रतन टाटा का स्वागत करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ स्थित अपने सरकारी आवास पर टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन श्री रतन टाटा का स्वागत करते हुए।

राज्य सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ हस्ताक्षरित

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि लोग अपने जीवन स्तर में बदलाव चाहते हैं। समाजवादी सरकार गरीबों के कल्याण के लिए गम्भीरता से प्रयास कर रही है। निर्धन और कमजोर वर्गों की स्थिति को तेजी से बेहतर बनाने में राज्य सरकार के प्रयासों में टाटा ट्रस्ट्स की भागीदारी से इन कार्यों को गति मिलेगी। प्रदेश सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के सहयोग से संचालित होने वाले कार्यक्रमों से गरीबों के जीवन में बदलाव आएगा।

मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर राज्य सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच बहुउद्देशीय ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ (एम0ओ0यू0) पर हस्ताक्षर किए जाने के मौके पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। इसके तहत शिक्षा और स्वास्थ्य सहित विभिन्न क्षेत्रों में सामुदायिक विकास से जुड़े कार्यों में प्रदेश सरकार और टाटा ट्रस्ट्स दीर्घकालिक भागीदारी निभाएंगे। इस मौके पर टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन श्री रतन टाटा भी मौजूद थे। राज्य सरकार की ओर से मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन और टाटा ट्रस्ट्स की तरफ से एक्ज़ीक्यूटिव ट्रस्टी श्री आर0 वेंकट रमन ने एम0ओ0यू0 पर हस्ताक्षर किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आबादी के लिहाज से उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। राज्य की क्षमताओं, सम्भावनाओं और उपलब्धियों का अक्सर न्यायोचित मूल्यांकन नहीं किया जाता। समाजवादी सरकार हर क्षेत्र और वर्ग की जरूरतों को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है। शहरों की तरक्की और खुशहाली के साथ-साथ गांव, गरीब और किसान के जीवन में बदलाव लाना सरकार की प्राथमिकता है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर हस्ताक्षर किए जाने के मौके पर।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को लखनऊ में उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर हस्ताक्षर किए जाने के मौके पर।

श्री यादव ने कहा कि सड़क, बिजली सहित अवस्थापना सुविधाओं और शिक्षा व स्वास्थ्य का अच्छा इंतजाम होने पर कोई भी प्रदेश विकास की नई मंजिलें तय करने लगता है। इसे ध्यान में रखकर राज्य सरकार बड़े पैमाने पर कार्य कर रही है। एक ओर जहां आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे और लखनऊ मेट्रो रेल का तेजी से निर्माण कराया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर प्रदूषण को नियंत्रित रखने के लिए साइकिल को बढ़ावा देनेे के लिए अलग से साइकिल ट्रैक बनाने तथा साइकिल को सस्ता करने का काम किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में राज्य की स्थिति बेहतर होने से ही इन सेक्टरों में देश के आंकड़े भी ठीक होंगे। इसके मद्देनजर प्रदेश सरकार स्वास्थ्य और शिक्षा पर पूरा ध्यान दे रही है। ‘108’ समाजवादी स्वास्थ्य सेवा और ‘102’ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस की चर्चा करते हुए कहा कि ये एम्बुलेंस सेवाएं गरीबों तक सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं की बेहतर पहुंच बनाने में मददगार साबित हो रही हैं। समाजवादी पेंशन योजना के माध्यम से 45 लाख गरीब महिलाओं को लाभ पहुंचाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की कोशिश रहेगी कि आने वाले समय में प्रदेश की कोई भी गरीब महिला समाजवादी पेंशन से वंचित न रहने पाये।

श्री रतन टाटा का स्वागत करते हुए श्री यादव ने कहा कि लखनऊ सहित पूरे उत्तर प्रदेश का परिदृश्य अब बदल चुका है। समाजवादी सरकार के तमाम प्रयासों से यहां बड़े पैमाने पर बदलाव आया है, जो नज़र भी आ रहा है। उन्होंने कहा कि पर्वतारोही सुश्री अरुणिमा सिन्हा ने अपने हौसले और साहस से गम्भीर चुनौतियों का सामना करते हुए ऐसी उपलब्धियां हासिल कीं, जिसकी सराहना पूरी दुनिया कर रही है। पिछले महीने जनपद उन्नाव के एक दूर-दराज के इलाके में सुश्री अरुणिमा सिन्हा के कार्यक्रम में शामिल होकर श्री टाटा ने न केवल सुश्री सिन्हा का मनोबल बढ़ाया, बल्कि ऐसे हजारों लोगों को भी सकारात्मक संदेश दिया, जो आगे बढ़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गरीबी उन्मूलन, रोजगार सृजन, आय में बढ़ोत्तरी सहित शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में बदलाव लाने के लिए कृत संकल्प है। इस कार्य में टाटा ट्रस्ट्स की सहभागिता और श्री रतन टाटा के मार्गदर्शन का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर अपने विचार व्यक्त करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर अपने विचार व्यक्त करते हुए।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 21 दिसम्बर, 2015 को उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर अपने विचार व्यक्त करते हुए।

राज्य की जनता की मदद के लिए हर सम्भव सहयोग और मदद का भरोसा दिलाते हुए सुप्रसिद्ध उद्योगपति श्री रतन टाटा ने अपने सम्बोधन में कहा कि वर्तमान में वे एक नये उत्तर प्रदेश को देख रहे हैं। प्रायः इस राज्य को सही नज़रिए से देखा नहीं जाता और इसकी खूबियों और क्षमताओं को कमतर आंका जाता है। सच तो यह है कि उत्तर प्रदेश एक उत्कृष्ट राज्य है, जहां वर्तमान मंे महत्वपूर्ण कार्य हो रहे हैं। प्रदेश में कराए जा रहे विकास कार्यों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के गतिशील नेतृत्व में यह राज्य विकास के क्षेत्र में नये आयाम स्थापित कर रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री की कार्यशैली की प्रशंसा करते हुए भरोसा जताया कि भविष्य में भी वे इसी लगन से प्रदेश के विकास और जनता की खुशहाली के लिए कार्य करते रहेंगे। उन्होंने उम्मीद जतायी कि भविष्य में उत्तर प्रदेश अनेक क्षेत्रों में देश का अग्रणी राज्य बन जाएगा। पोषण के क्षेत्र में ट्रस्ट्स द्वारा इस उद्देश्य से सहयोग किया जाएगा ताकि आने वाले वर्षों में एक स्वस्थ और मजबूत मानव संसाधन का आधार मिल सके।

मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन ने कहा कि राज्य के नागरिकों के जीवन स्तर में गुणात्मक सुधार लाने के लिए प्रदेश सरकार और टाटा ट्रस्ट्स मिलकर कार्य करेंगे। उन्होंने पोषण मिशन, कौशल विकास मिशन, लोहिया समग्र ग्राम विकास योजना, किसानों के बैंक खातों में अनुदान राशि का हस्तांतरण आदि योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि टाटा ट्रस्ट्स सामुदायिक विकास के जिन क्षेत्रों में सक्रिय है, वे सेक्टर्स राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में भी शामिल हैं। कार्यों के सुचारु संचालन एवं प्रभावी अनुश्रवण के लिए एक संयुक्त राज्य स्तरीय कमेटी गठित की गई है।

एक्ज़ीक्यूटिव ट्रस्टी श्री आर0 वेंकट रमन ने इस अवसर पर कहा कि ट्रस्ट्स के लिए उत्तर प्रदेश से जुड़ाव अत्यन्त महत्वपूर्ण है। शिक्षा, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, सौर ऊर्जा आदि तमाम क्षेत्रों में टाटा ट्रस्ट्स राज्य सरकार के साथ मिलकर कार्य करेंगे। उन्होंने बताया कि ट्रस्ट्स द्वारा प्रदेश के 10 जिलों में डबल फोर्टीफाइड नमक वितरण का कार्यक्रम संचालित किया जाएगा। इस तरह का कार्यक्रम देश में पहली बार उत्तर प्रदेश से प्रारम्भ होगा।

इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी, व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री श्री अभिषेक मिश्र, उपाध्यक्ष राज्य योजना आयोग श्री नवीन चन्द्र बाजपेयी, सांसद श्रीमती डिम्पल यादव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्रीमती अनीता सिंह, प्रमुख सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल, सचिव मुख्यमंत्री श्री पार्थ सारथी सेन शर्मा, सूचना निदेशक श्री आशुतोष निरंजन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

ज्ञातव्य है कि प्रदेश सरकार और टाटा ट्रस्ट्स एम0ओ0यू0 के तहत जिन क्षेत्रों में मिलकर कार्य करेंगे उनमें मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य भी शामिल है। माताओं एवं बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पोषण कार्यक्रम तैयार कर उसे लागू किया जाएगा। महिलाओं में खून की कमी को दूर करने के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे। प्राथमिक स्वास्थ्य तंत्र की मदद से शुरूआती चरण में ही कैंसर का पता लगाने के लिए एक प्रणाली विकसित कर लागू की जाएगी। साथ ही, कैंसर रजिस्ट्री भी तैयार की जाएगी। लोगों के रहन-सहन के स्तर को बेहतर बनाने के लिए राज्य सरकार और टाटा ट्रस्ट्स गुणवत्तापरक शिक्षा तथा रोजगारपरक प्रशिक्षण के क्षेत्रों में भी मिलकर कार्य करेंगे।
इसके अलावा आॅफ ग्रिड सौर ऊर्जा तथा सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई प्रणाली का विकास तथा सोलर वाॅटर लिफ्टिंग पम्प्स की स्थापना का कार्य भी किया जाएगा। साथ ही, हाईटेक प्लाण्ट नर्सरी, हाॅर्टीकल्चर के क्षेत्र में उन्नत तकनीक एवं प्रजातियों का समावेश, एग्रो फाॅरेस्ट्री, जैविक खेती तथा कृषि उपज में बढ़ोत्तरी के लिए भी सम्मिलित रूप से प्रयास किए जाएंगे।

फसलों का सुरक्षित भण्डारण, कृषि विपणन, लघु सिंचाई प्रणाली को प्रोत्साहन, उन्नत प्रजातियों के बीजों के विकास सहित दूध, मैंथा, लहसुन, प्याज मक्का, दालों, केला, आलू आदि के लिए वैल्यू चेन का विकास भी किया जाएगा।

* प्रदेश सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के सहयोग से संचालित होने वाले कार्यक्रमों से गरीबों के जीवन में बदलाव आएगा: मुख्यमंत्री
* समाजवादी सरकार के प्रयासों से उ0प्र0 में बड़े पैमाने पर बदलाव आया
* राज्य सरकार की कोशिश होगी कि कोई भी गरीब महिला समाजवादी पेंशन से वंचित न रहे
* मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के गतिशील नेतृत्व में उ0प्र0 विकास के नये आयाम स्थापित कर रहा है: श्री रतन टाटा

उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर हस्ताक्षर किए जाने के अवसर पर साथ में हैं मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव।
उ0प्र0 सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के बीच ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ पर हस्ताक्षर किए जाने के अवसर पर साथ में हैं मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव।

 

Uttar Pradesh has witnessed a sea change with efforts of the Samajwadi Government

It will be the endeavour of the state government that no poor women are deprived of the Samajwadi Pension Scheme

Uttar Pradesh is setting new milestones under the progressive leadership of Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav : Mr. Ratan Tata

‘Memorandum of Understandings’ signed between the State Government and the Tata Trusts

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has said that people want a change in their living standard and for that the state government was making serious and sustained efforts for the welfare of the poor and marginalized sections of the society.

He added that with support and cooperation from the Tata Trusts, these programmes would get a fresh impetus and bring about a turnaround in the lives of the poor. The Chief Minister was today speaking at his official residence after the signing of multi-dimensional ‘MoU’s with the Tata Trusts.

Under the MoU’s, the state government and the Tata Trusts would work in the field of community development in education and health sectors. Chairman of the Tata Trusts Mr. Ratan Tata was present during the ceremony. From the state government side, Chief Secretary Mr. Alok Ranjan and from the Tata Trusts, its executive Trustee Mr. R. Venkat Raman signed the MoU. Speaking on the occasion, the Chief Minister said that the state was the largest in the country, in terms of population and often it is not judiciously evaluated by its potential, possibilities and achievements.

The state, he pointed out, was working for all-round development of its people and welfare of the poor, down trodden, weaker and marginalized sections of the society. The priority of the state government, he further added, was committed to bringing about a turnaround in the lives of people living in both the urban and rural areas.

Mr. Yadav further stated that any state can fast track its progress and development if it has good road, power and other infrastructure along with education and health. The state, he added, while on one hand was constructing the Lucknow Metro Rail, it was also constructing the AgraLucknow Expressway and also establishing cycle tracks in many cities with an aim to minimize pollution.

The Chief Minister also mentioned other schemes and projects like the 108 Samajwadi Health Service and the 102 National Ambulance Service, which were rendering great service to people in need in far flung areas and interiors.

Under the Samajwadi Pension Scheme, more than 45 lakh poor women are being benefited and the government was trying its best to ensure that no poor women in the state is left untouched by the scheme, the Chief Minister assured.

Welcoming Mr. Ratan Tata, the Chief Minister said that the face of Lucknow and the entire state was fast changing and the policies of the Samajwadi government were set to make it a front ranking state in the country. He also thanked Mr. Tata for coming to an interior place in Unnao to felicitate and encourage mountaineer Ms. Arunima Sinha and said this gesture had encouraged thousands of people and gave a strong and a positive message. He also said that in works like poverty alleviation, job creation, increasing income, education and health, the guidance of Mr. Ratan Tata will add more meaning to the efforts of the state government.

Mr. Ratan Tata in his address assured all possible help and support to the people of the state and said that at present he was looking at a new Uttar Pradesh and admitted that the state was never weighed on its talent and potential. In fact, the eminent industrialist said, the state was a great one where lot of significant works were underway. Lauding the Chief Minister for the work taking place in the state, he expressed hope that under his able leadership the state will take giant strides in development.

In the field of nutrition, he said, the Tata Trusts would support the efforts so that in the coming years, a healthy and strong man power is found here. Mr. Alok Ranjan, the chief secretary said that the Tata Trusts and the state government would work together to bring about qualitative change in the lives of the people of the state.

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव एवं श्री रतन टाटा की उपस्थिति में, मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन लखनऊ में ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ दस्तावेज का आदानप्रदान करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव एवं श्री रतन टाटा की उपस्थिति में, मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन लखनऊ में ‘मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग’ दस्तावेज का आदानप्रदान करते हुए।

Executive Trustee Mr. R. Venkat Raman, in his address said that the association of the Trusts with UP was very significant and informed that it would work with the state in education, mother and child health, solar energy and many other sectors. He also said that the Trusts would distribute double fortified salt in 10 districts. A project of this kind would be for the first time start from Uttar Pradesh.

Also present were Political Pensions Minister Mr. Rajendra Chowdhary, Minister of State for Technical Education Mr. Abhishek Mishra, Deputy Chairman of the State Planning Commission Mr. Naveen Chandra Bajpayi, MP Mrs. Dimple Yadav, Principal Secretary to the Chief Minister Mrs. Anita Singh, Principal Secretary (Information) Mr. Navneet Sehgal, Secretary to CM Mr. Partha Sarthy Sen Sharma, Director Information Mr. Ashutosh Niranjan and other officials.

State government and the Tata Trusts would be working include mother-infant health, preparing and implementation of a nutrition programme for better health of mother-child, special efforts in ensuring that anaemia (lack of blood) is eliminated in women. A mechanism would be developed so that cancer can be detected at an early stage and a cancer registry would also be prepared. Both sides would work together to ensure quality education and job-oriented training in various sectors.

Under the MoU, developing off-grid solar energy based irrigation system, establishing solar water lifting pumps, hi-tech plant nurseries, use of modern technology and methods in horticulture, assimilation of various varieties, agro-forestry, bio-farming and combined efforts to increase agriculture harvest, are some initiatives involved. The MoU would also encompass safe storage, agri-marketing, encouraging micro-irrigation, developing high quality seeds, development of value chain for milk, mentha, garlic, onion, maize, pulses, banana and potatoes.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *