फरीदाबाद

People from two societies come to the streets face-to-face in Greater Faridabad

हरियाणा के फरीदाबाद में सेक्टर-87 स्थित एसआरएस रॉयल हिल्स सोसायटी में रास्ते को लेकर दो सोसायटी के लोग आए आमने-सामने

ग्रेटर फरीदाबाद के सेक्टर-87 स्थित एसआरएस रॉयल हिल्स और एसआरएस पर्ल फ्लोर सोसायटी के निवासियों को रास्ते को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया। एसआरएस रॉयल हिल्स के लोगों ने सोसायटी के मुख्य द्वार का बंद कर दिया और स्कूल बसों को एसआरएस पर्ल फ्लोर सोसायटी में नहीं जाने दिया। इससे दोनों सोसायटी के लोग आमने-सामने आ गए और तीन घंटे तक दोनों सोसायटी के लोगों ने हंगामा किया।

एसआरएस रॉयल हिल्स और एसआरएस पर्ल सोसायटी एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं और दोनों सोसायटी के आन जाने का रास्ता भी एक ही है। सोमवार को सुबह साढ़े छह बजे के करीब जब स्कूल बसें एसआरएस पर्ल फ्लोर में जाने के लिए एसआरएस रॉयल हिल्स में प्रवेश करने लगी, तो वहां पर मौजूद लोगों ने बस को अंदर नहीं जाने दिया।

एसआरएस रॉयल हिल्स निवासियों का कहना था कि सोसायटी में स्कूल बसों के आवागमन से बेसमेंट के पिलर में दरार आने लगी है और कभी भी कोई हादसा हो सकता है और सोसायटी की सड़कें भी टूटने लगी हैं। ग्रेटर फरीदाबाद की किसी भी सोसायटी में बसें अंदर नहीं जाती हैं। पर्ल सोसायटी के लिए अलग रास्ता बनाया हुआ है।

वहीं एसआरएस पर्ल फ्लोर के निवासियों का कहना था कि दोनों सोसायटी के आने जाने का एक ही रास्ता है और पिछले छह-सात सालों से इसी रास्ते का इस्तेमाल कर रहे हैं। एसआरएस रॉयल हिल्स और पर्ल फ्लोर के बीच करीब एक किलोमीटर की दूरी है। ऐसे में महिलाओं के एसआरएस रॉयल हिल्स के गेट तक पैदल आना संभव नहीं है। इसके अलावा बिल्डर ने ऐसा कोई रास्ता नहीं दिया है, जिसे बसें अंदर आ सकें।

हंगामे की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस द्वारा भी समस्या का समाधान नहीं मिलने पर एसआरएस पर्ल फ्लोर सोसायटी के लोगों ने हुडा प्रशासक सोनल गोयल से मुलाकात की। उन्होंने दोनों सोसायटी के निवासियों से शांति बनाए रखने को कहा और कहा किडीटीपी और एसटीपी से विचार विमर्श करके समस्या का समाधान जल्द ही निकाला जाएगा।

एसआरएस रॉयल हिल्स सोसायटी आरडब्ल्यूए के महासचिव प्रदीप सिवाच ने बताया कि बसों के आवागमन से नींव कमजोर रही है और सोसायटी के पिलर में दरार आने लगी है। वहीं एसआरएस पर्ल फ्लोर सोसायटी के आरडब्ल्यूए के प्रधान सुनील नरवाल ने बताया कि शुरू से ही हम इस रास्ते से आवागमन कर रहे हैं। कभी भी किसी ने कोई आपत्ति दर्ज नहीं कराई। अब ऐसे में एकाएक रास्ता बंद करना उचित नहीं है।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

5 Replies to “People from two societies come to the streets face-to-face in Greater Faridabad”

  1. News left many critical points
    Pearl floor society have three ways available but they locked there way
    All available government document says society premises and it’s way belong to respective society only not to other society

  2. Moreover pearl residents can use backside adjusent road which is capable for bus transportation. Thus ladies of pearl floor need not to walk 1km. Just spreading lie couldn’t help in solution of problem. Use backside road to save your family n time n Royal Hills structure…

  3. Wrong statement by Sunil Narwhal. They have been informed 2 years ago to find alternative road. The road has been made but they do not want to use it.

  4. Safety & Security is more important for the society than 1 km walk.Also note that entry restricted for all the heavy vehicles t including School Buses in Greater Faridabad.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *