मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की हाईटेक एएलएस एंबुलेंस

Not found Ambulance old man drops in tempo in Kannauj

उत्तर प्रदेश के योगी राज में नहीं मिली एंबुलेंस, वृद्धा ने टेंपो में दम तोड़ा

आमजन के लिए शासन की एंबुलेंस सेवा कर्मचारियों की मनमानी से धरातल पर राहत देने की बजाय मरीजों के लिए जानलेवा बनी हुई है। सीने के दर्द से तड़प रही वृद्धा को जब एंबुलेंस नहीं मिली, तो परिजन टेंपो से अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

बुधवार सुबह क्षेत्र के ग्राम पनियारेपुरवा ईश्वरी देवी पत्नी भैयालाल को सीने में तेज दर्द हुआ और हाथ-पैरों में जलन हुई तो परिजनों ने 108 एंबुलेंस को कॉल की। काफी देर तक जब एंबुलेंस नहीं पहुंची तो वह टेंपो से जिला अस्पताल लाए। यहां से उन्हें राजकीय मेडिकल कॉलेज तिर्वा रेफर कर दिया। उनकी बेटी रानी और दामाद राजीव पाल ने बताया कि मेडिकल कॉलेज से उन्हें फिर जिला अस्पताल भेज दिया गया। जिला अस्पताल के इमरजेंसी गेट के बाहर काफी देर तक वृद्धा सीने के दर्द से छटपटाती रही। परिजनों के काफी कहने के बाद भी कोई डॉक्टर उन्हें देखने नहीं गया। यहां तक कि वार्ड तक लाने के लिए स्ट्रेचर भी नसीब नहीं हुआ। परिजन गोद में उठाकर वार्ड में लाए। यहां डॉ. कुमार अर्पित ने ईश्वरी देवी को मृत घोषित कर दिया।

राजीव ने बताया कि यहां से वहां रेफर करने में उसकी सास की जान चली गई, यदि समय से उपचार मिल जाता तो उनकी जान बच सकती थी। कानपुर ले जाने के लिए एएलएस एंबुलेंस भी नहीं मिली। मामले की शिकायत सीएमओ से की गई है। यह बेहद गंभीर मामला है। इस बारे में एंबुलेंस सेवा के अधिकारियों को अवगत कराया जाएगा और संवेदनहीन कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। जिला अस्पताल के सीएमएस से भी इस बारे में पूछा जाएगा।

  • डॉ. कृष्ण स्वरूप, सीएमओ
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *