रमाकांत यादव

Former MP Ramakant Yadav sister of late SP MP Phoolan Devi joins Samajwadi Party

पूर्व सांसद रमाकांत यादव समेत कई बसपा नेता समाजवादी पार्टी में शामिल, अखिलेश यादव ने दिलाई सदस्यता

पूर्वांचल के बड़े नेता रमाकांत यादव अपने समर्थकों के साथ रविवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें प्राथमिक सदस्यता दिलाई। इस मौके पर बड़ी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे।

रमाकांत यादव के साथ ही कई बसपा नेता भी अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए।

पूर्व सांसद रमाकांत यादव और फूलन देवी की बहन ने ज्वॉइन की समाजवादी पार्टी

कांग्रेस से निकाले गए पूर्व सांसद रमाकांत यादव आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष अबू आसिम आजमी की मौजूदगी में रमाकांत यादव ने पार्टी की सदस्यता ली. अखिलेश के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ से रमाकांत चार बार सांसद रह चुके हैं. इसके अलावा पूर्व सांसद स्वर्गीय फूलन देवी की बहन रूक्मणी देवी निषाद भी सपा में शामिल हो गई हैं.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष अबू आसिम आजमी की मौजूदगी में रमाकांत यादव ने पार्टी की सदस्यता ली. अखिलेश के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ से रमाकांत चार बार सांसद रह चुके हैं. इसके अलावा पूर्व सांसद स्वर्गीय फूलन देवी की बहन रूक्मणी देवी निषाद भी सपा में शामिल हो गई हैं.

बाहुबली पूर्व सांसद रमाकांत यादव (Ramakant Yadav) एक बार फिर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) में घर वापसी करेंगे. वह 6 अक्टूबर को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की मौजूदगी में पार्टी ज्वाइन करेंगे. कहा जा रहा है कि दल-बदल में माहिर रमाकांत ने राजनीतिक करियर डूबता देख समाजवादी पार्टी में वापसी का फैसला लिया है. बता दें कि वर्ष 2019 में बीजेपी से टिकट न मिलने से नाराज रमाकांत ने कांग्रेस का हाथ पकड़ा था. कांग्रेस ने उन्हें भदोही से मैदान में उतारा था, लेकिन उन्हें बीजेपी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. इतना ही नहीं उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी. निर्दलीय राजनीति की शुरुआत करने वाले रमाकांत यादव मुलायम सिंह के करीबी हुआ करते थे.

चार बार विधायक व सांसद रह चुके हैं रमाकांत

गौरतलब है कि रमाकांत यादव वर्ष 1985 में आजमगढ़ से पहली बार निर्दलीय विधायक चुने गए थे. इसके बाद 1989 में बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे, फिर 1991 में समाजवादी जनता पार्टी और 1993 में सपा के टिकट से विधायक बने. 1996 और 1999 में वे आजमगढ़ से सपा के टिकट पर लोकसभा पहुंचे. इसके बाद 2004 में बसपा और 2009 में फिर सपा के टिकट पर चुनाव जीतकर लोकसभा का सफ़र तय किया. रमाकांत यादव चार बार विधायक और चार बार सांसद रह चुके हैं.

In a bid to reverse his political downturn, former four-time Azamgarh MP and OBC leader from Purvanchal Ramakant Yadav is returning to the Samajwadi Party.

Mr. Ramakant, who contested the 2019 Lok Sabha polls on a Congress ticket from Bhadohi after the BJP denied him nomination from Azamgarh, will rejoin the SP on Sunday. He will be inducted by SP national president Akhilesh Yadav.

Mr. Ramakant told The Hindu that he was returning to the SP because he could not see any other alternative “to save the State and country”.

Mr. Ramakant won the Azamgarh Lok Sabha seat in 1996 and 1999 as an SP member before securing the seat in 2004 on a BSP ticket and then with the BJP in 2009.

In 2014, however, he lost to SP patron Mulayam Singh, with whom he had a long-shared connection, in a tight fight.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *