मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर कर्मचारियों से बातचीत करते हुए।

Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav inspects Finance Department at the Secretariat

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर कर्मचारियों से बातचीत करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर कर्मचारियों से बातचीत करते हुए।

Express satisfaction at the working of the Finance Department

Issues directives to make the State Secretariat ‘Clean Secretariat’

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has issued instructions to officials to make the State Secretariat a ‘Clean Secretariat’. The Chief Minister issued these instructions after inspecting sections of the Finance Department at the secretariat today.

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर कर्मचारियों से बातचीत करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर कर्मचारियों से बातचीत करते हुए।

Expressing satisfaction at the cleanliness and systematic functioning at the Finance Department, Mr. Yadav expected all departments to be clean and up to the mark. During the inspection, the Chief Minister also interacted with employees at various sections of the Department and inspected various aspects at the office including cleanliness. He also said that in future too he would be doing such inspections.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।

आइएएस वीक के अंतर्गत आज बेहद हल्के माहौल में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव सख्त तेवर में थे। उन्होंने राजधानी लखनऊ स्थित विधानभवन तिलक हाल में प्रदेश की शीर्ष अफसरशाही के पेंच कसे। मुख्यमंत्री ने अफसरों से साफ शब्दों में कहा कि लापरवाही किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अधिकारियों के वार्षिक मूल्यांकन करते समय इस तथ्य को ध्यान में रखा जाएगा कि उनके विभाग में विकास एजेण्डा पर कितनी सार्थक और परिणामजनक कार्रवाई हुई है। अगले वित्तीय वर्ष के प्रारम्भ से ही अधिक से अधिक वित्तीय स्वीकृतियां जारी की जाएं और जो नये कार्यक्रम या नई मांग बजट में पारित हों, उनकी प्रक्रिया और उनसे सम्बन्धित नीतिगत निर्णय तुरन्त लिए जाए, ताकि धरातल पर कार्य शीघ्र प्रारम्भ हो सके। उन्होंने वर्तमान वित्तीय वर्ष के शेष दो माह में विकास एजेण्डा वर्ष २०१४-१५ के बिन्दुओं पर निर्धारित समय सारणी के अनुसार प्रभावी कार्यवाही की अपेक्षा भी की है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 13 फरवरी, 2015 को लखनऊ में सचिवालय स्थित वित्त विभाग के निरीक्षण के अवसर पर।

मुख्यमंत्री आज यहां विधान भवन स्थित तिलक हाॅल में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्ष २०१५-१६ के लिए जो विकास एजेण्डा निर्धारित किया गया है उसमें सहभागी विकास, योजनाओं और कार्यक्रमों के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु नवीनतम तकनीकों का प्रयोग तथा प्रभावी और पारदर्शी प्रशासन पर बल दिया गया है, जिससे अवस्थापना में सुधार करते हुए प्रदेश की विकास दर को आगे बढ़ाया जा सके और विकास का लाभ किसानों, गरीबों, मजदूरों, महिलाओं और अल्पसंख्यक इत्यादि सभी तबकों को मिल सके।

अखिलेश ने जिलाधिकारियों को सरकार की अपेक्षाओं से अवगत कराया और कहा कि विकास सुनिश्चित करने के लिए अमन-चैन का वातावरण बनाए रखना और कानून व्यवस्था को सुदृढ़ रखना बहुत जरूरी है और इसकी मुख्य जिम्मेदारी जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक की ही है। अधिकारियों को इस सम्बन्ध में निर्भय होकर निष्पक्षता और ईमानदारी से काम करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही को गम्भीरता से लिया जाएगा। यदि कोई असामाजिक तत्व प्रदेश के अमन-चैन और साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश करे तो स्थानीय स्तर पर तैनात अधिकारी गुण-दोष के आधार पर प्रभावी कार्यवाही करते हुए ऐसे घटनाओं पर तत्काल रोक लगाएं और समय रहते शासन को अवगत कराएं।

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *