उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में निफ्ट, रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी में।

Chief Minister Akhilesh Yadav pitches for promotion of Khadi Products with the help of students from NIFT

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में निफ्ट, रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी में।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में निफ्ट, रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी में।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं का शुभारम्भ किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि खादी वस्त्रों को बढ़ावा देने के लिए उन्हें आधुनिक बाजार और फैशन की जरूरतों के अनुरूप उन्नत बनाने की आवश्यकता है। वर्तमान समय के हिसाब से ही इनकी ब्राण्डिंग और मार्केटिंग की भी जरूरत है। इसके लिए आवश्यकतानुसार विशेषज्ञ संस्थान की सहायता भी ली जानी चाहिए। खादी को प्रचार की भी जरूरत है। प्रचार नहीं होगा तो खादी पीछे रह जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार खादी वस्तुओं को बढ़ावा देने के लिए हर सम्भव मदद करेगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।

मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग पर खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न लोककल्याणकारी एवं विकास योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा खादी वस्त्रों को प्रोत्साहन देने के लिए उठाए गए कदमों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि इन प्रयासों से खादी की लोकप्रियता बढ़ेगी। इससे ग्रामीण क्षेत्र के कत्तिनों तथा बुनकरों को सीधे लाभ मिलेगा व रोजगार की बेहतर सम्भावनाएं विकसित होंगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी वस्त्र सम्बन्धी ब्रोशर, खादी विकास से सम्बन्धित कार्य विवरणिका तथा स्वाच कार्ड का लोकार्पण करते हुए।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी वस्त्र सम्बन्धी ब्रोशर, खादी विकास से सम्बन्धित कार्य विवरणिका तथा स्वाच कार्ड का लोकार्पण करते हुए।

उन्होंने कहा कि खादी की चर्चा से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और खादी से उनका जुड़ाव याद आता है। आज भी तमाम लोगों को खादी से बहुत प्यार है। गांधी आश्रम जाकर खादी के प्रति लोगों के लगाव को देखा जा सकता है।

श्री यादव ने कहा कि खादी वस्तुओं से बड़े पैमाने पर गरीबों को रोजगार मिलता है और उनकी आर्थिक स्थिति बेहतर होती है। इसलिए इसे बढ़ावा देना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि खादी को बढ़ावा देने की शुरूआत हमारे बीच से ही होनी चाहिए। यह हम सबकी जिम्मेदारी है कि खादी आगे बढ़े, बदलते दौर में खादी को समुचित स्थान मिले तथा लोगों में इसके प्रति आकर्षण पैदा हो।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।

खादी को लोकप्रिय बनाने के लिए राष्ट्रीय फैशन तकनीकी संस्थान (निफ्ट), रायबरेली द्वारा किए जा रहे सहयोग की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि परिस्थितियों के अनुसार बदलाव की जरूरत होती है। खादी के कपड़े, धागे, रंग आदि में बदलाव की आवश्यकता को इस व्यवसाय से जुड़े लोग तथा निफ्ट के विद्यार्थी बेहतर तरीके से समझ सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में निफ्ट जैसे और संस्थान खुलने चाहिए। राज्य सरकार इसके लिए जमीन उपलब्ध कराने को तैयार है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने खादी को बढ़ावा देने हेतु पूरी मदद की है। खादी संस्थाओं के बकाया भुगतान के साथ ही खादी वस्त्रों पर छूट को बढ़ाया गया है। इसके लिए बजट में व्यवस्था की गई है। आज बुन्देलखण्ड क्षेत्र की 75 महिलाओं को आधुनिक तकनीकी के चर्खे निःशुल्क मुहैया कराए गए हैं। इनमें से 25 महिलाएं बांदा जनपद की तथा 50 महिलाएं झांसी जनपद की हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में बुन्देलखण्ड क्षेत्र की महिलाओं को दिए जाने वाले आधुनिक चर्खे के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में बुन्देलखण्ड क्षेत्र की महिलाओं को दिए जाने वाले आधुनिक चर्खे के बारे में जानकारी प्राप्त करते हुए।

उन्होंने खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग को गरीबों को चर्खे मुहैया कराने की तैयारी के निर्देश देते हुए कहा कि समाजवादी सरकार ने निःशुल्क लैपटॉप वितरण तथा कन्या विद्याधन जैसी योजनाओं को लागू किया है। इससे विद्यार्थियों को पढ़ाई में मदद हुई है। समाजवादी सरकार स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए यदि निःशुल्क चर्खे मुहैया कराने पड़े तो भी कराएगी।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री ब्रह्माशंकर त्रिपाठी ने कहा कि आधुनिक ढंग से खादी निर्माण से खादी वस्त्रों की गुणवत्ता बढ़ेगी तथा अन्य प्रकार के वस्त्रों के मुकाबले में आ जाएगी। उन्होंने कहा कि विभाग की मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना के माध्यम से सरकार के गठन से लेकर अब तक कुल 10,737 इकाइयों द्वारा 535 करोड़ रुपए का पूंजी निवेश कराते हुए कुल 2,17,078 लोगों को अब तक रोजगार उपलब्ध कराया जा चुका है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में निफ्ट, रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी में।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में निफ्ट, रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी में।

खादी वस्त्र मे रिबेट दिए जाने के प्राविधान में प्रत्येक वर्ष में 60 दिनों की व्यवस्था थी, जिसका वर्तमान सरकार द्वारा बढ़ाकर 108 दिन करते हुए खादी की बिक्री को प्रोत्साहित किया गया। खादी रिबेट के विगत 12 वर्षों की देयता के रूप में 70.40 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया गया है।

वर्तमान सरकार द्वारा खादी बिक्री पर कुल 146.45 करोड़ रुपए का भुगतान कराते हुए 06 लाख 56 हजार कत्तिनों एवं बुनकरों को सीधे लाभ पहुंचाया गया है। इसके अलावा खादी तथा ग्रामोद्योग के प्रदेश स्थित 10 प्रशिक्षण केन्द्रों में कौशल सुधार एवं व्यवहारिक प्रशिक्षण कराते हुए 24,036 प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षित किया गया है। इस मौके पर सुई-धागा ब्राण्ड की सुश्री श्वेता शर्मा ने भी खादी को प्रोत्साहन के उपायों पर अपने विचार रखे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग की विभिन्न योजनाओं के शुभारम्भ अवसर पर।

कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्यमंत्री द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। इसके बाद उन्होंने खादी वस्त्र सम्बन्धी ब्रोशर, खादी विकास से सम्बन्धित कार्य विवरणिका तथा स्वाच कार्ड (खादी वस्त्रों के नमूने) का लोकार्पण किया। तत्पश्चात् मुख्यमंत्री ने बुन्देलखण्ड क्षेत्र की कत्तिनों को आधुनिक तकनीकी के चर्खे वितरित किए।
खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री ब्रह्माशंकर त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री को शॉल और पारिजात का पौधा भेंट किया। खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग ने खादी को बढ़ावा देने हेतु किए गए प्रयासों पर एक वीडियो भी प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम के अंत में खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के सदस्यों एवं सुश्री श्वेता शर्मा ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किए। खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री मनमोहन चौधरी ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि शासन के निर्देशों का बोर्ड द्वारा अक्षरशः पालन किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग के कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 26 मई, 2016 को लखनऊ में खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग के कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय फैशन तकनीकी संस्थान (निफ्ट), रायबरेली के विद्यार्थियों द्वारा डिजाइन किए गए खादी वस्त्रों की लघु प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा बुन्देलखण्ड क्षेत्र में वितरित किए जाने वाले आधुनिक चर्खे के बारे में जानकारी प्राप्त भी की।

Need to develop Khadi clothes with the trends of modern fashion and market : Chief Minister

Reference to Khadi connects one to Mahatma Gandhi and reminds his love for the fabric

Khadi generates large-scale employment for the poor hence promoting it is a responsibility of everyone

If needed, the state government would provide free spinning wheels to generate self-employment

Chief Minister distributes modern spinning wheels to 75 women from Bundelkhand

State Government willing to provide land for institutes like NIFT

The rebate period on Khadi products every year raised from 60 days to 108 days : Minister for Khadi and Gramodyog

Chief Minister unveils brochure, detailed booklet on Khadi development and Swatch Card (samples of Khadi clothes)

Chief Minister launches public welfare and developmental schemes of Khadi and Cottage Industry department

Uttar Pradesh Chief Minister Mr Akhilesh Yadav has said that Khadi promotion needs to be synced with needs of the market and trends in the fashion world and underlined the need of marketing and branding of the Khadi products as per contemporary needs and times.

He also suggested that a specialized institute should also be roped in for the same and called for more publicity for the Khadi brand. The Chief Minister also assured that his government would do everything to promote Khadi products. The Chief Minister was today speaking at his official 5, Kalidas Marg residence after launching of various developmental and public welfare schemes of the Khadi and Gramodyog department.

Praising the department for its efforts to popularize Khadi products, the Chief Minister said this will go a long way in making the Khadi products more acceptable by people. Since Khadi involves large-scale job creation, it is imperative on all to promote it, Mr Yadav further said.

Adding that the mention of Khadi rekindles memories of Mahatma Gandhi and his fondness for the fabric, the Chief Minister said people’s affection for Khadi can be seen by the number of people who visit Gandhi Ashram’s. He also called for assimilation of modern techniques and fashion trends to make Khadi more popular in the society, especially the youth.

Lauding the work done by NIFT Rae Bareli, he called for change as per needs of modern times. He also called for more such institutes like NIFT in the state and said that his government was more than willing to provide land for such institutes. To promote Khadi, he added, many incentives had been given by the state government and provisions for the same have been made in the budget.

He also gave away modern spinning wheels to 25 women from Banda and 50 women from Jhansi district. He also directed officials of the department to provide ‘charkhas’ to poor people, the Chief Minister also detailed schemes like free laptops to meritorious students and Kanya Vidya Dhan scheme.

The minister for Khadi and Gramodyog Mr Brahmashanker Tripathi said that use of modern technology will not only increase the quality of Khadi but would also bring it at par with other fabrics. He also informed the gathering that through the Chief Minister Gramodyog Employment Scheme, the state government had so far invested Rs 535 crore in 10,737 units and generated employment for 2,17,078 people.

He also informed that the rebate period has also been increased from 60 days to 108 days and against a twelve-year arrears against rebate of Rs 70.40 crore has been paid. At present, the initiatives rolled out by the state government, by payment of Rs 146.45 crore, 6.56 lakh weavers have been directly benefited.

Other than this, through 10 training centers have been trained under the skill development and practical programmes, leading to professional training of 24,036 persons. On this occasion, Ms Shweta Sharma of the ‘sui-dhaaga’ brand also put forth her ideas and vision for development of Khadi.

The event was inaugurated by the Chief Minister by lighting the ceremonial lamp after which he launched the swatch card and a Khadi related brochure.After this the Chief Minister gave away modern spinning wheels to weavers from Bundelkhand region. A video was also played to show the work done in the sector.

At the end of the programme members of the Khadi Gramodyog Board and Ms Shweta Sharma presented a memento to the Chief Minister. The vote of thanks was proposed by CEO of the Khadi and Gramodyog Board Mr Manmohan Chowdhary wherein he assured that directives of the state government would be implemented in letter and spirit.

Before this, the Chief Minister saw a small exhibition put up by students of NIFT, Rae Bareli. Also present at the event were Ministers Mr Rajendra Chowdhary, Mr Vinod Kumar aka Pandit Singh, Mr Moolchand Chauhan, MLC Mr Madhukar Jaitley, Principal Secretary (Information) Mr Navneet Sehgal, Principal Secretary (Khadi and Gramodyog) Mrs Monica S Garg, director of NIFT Rae Bareli Mr Bharat Shah, officials of the state government and district administration and other dignitaries.

इस अवसर पर राज्य सरकार में मंत्री श्री राजेन्द्र चौधरी, श्री विनोद कुमार उर्फ पण्डित सिंह, श्री मूलचंद चौहान, विधान परिषद सदस्य श्री मधुकर जेटली, प्रमुख सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग श्रीमती मोनिका एस0 गर्ग, निफ्ट रायबरेली के निदेशक श्री भरत शाह सहित शासन-प्रशासन के अधिकारी व अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *