मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर करते हुए।

Chief Minister Akhilesh Yadav lays foundation stones and inaugurates 35 projects worth Rs. 300 crore at the KGMU

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर करते हुए।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने केजीएमयू की लगभग 300 करोड़ रु0 की 35 योजनाओं का शिलान्यास, लोकार्पण किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि राज्य में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की सर्वसुलभ सुविधा के लिए गम्भीरता से काम किया जा रहा है। चिकित्सकों की संख्या बढ़ाने के लिए जहां नये राजकीय मेडिकल कॉलेजों की स्थापना की जा रही है, वहीं प्रशिक्षित पैरामेडिकल स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए नये संस्थानों की स्थापना के साथ-साथ पुराने संस्थानों की क्षमता बढ़ायी जा रही है। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (के0जी0एम0यू0) को देश एवं दुनिया का बेहतरीन चिकित्सा विश्वविद्यालय बताते हुए उन्होंने कहा कि इसका एक गौरवशाली इतिहास है। यहां से निकले चिकित्सक पूरी दुनिया में संस्थान का नाम रौशन कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री आज यहां साइंटिफिक कनवेंशन सेण्टर में किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (के0जी0एम0यू0) की लगभग 300 करोड़ रुपये की लागत की 35 परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण के अवसर पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

श्री यादव द्वारा जिन महत्वपूर्ण परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया उनमें लगभग 105 करोड़ रुपये की लागत से किए जाने वाले कार्डियोलोजी वार्ड का विस्तार प्रमुख है। ज्ञातव्य है कि कार्डियोलाजी विभाग के भवन का विस्तार पूरा हो जाने पर विभाग में 100 बेड की बढ़ोत्तरी हो जाएगी। कार्डियोलाजी विभाग की सेवाओं को साल के सभी दिन 24 घण्टे (24×7,365) मुहैया कराने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा भवन के विस्तार कार्य का शिलान्यास किया गया। इसके साथ ही, बर्न यूनिट एवं आर्गन ट्रांसप्लाण्ट आई0सी0यू0 का भी शिलान्यास किया गया।

लोकार्पित की जाने वाली परियोजनाओं में रायबरेली रोड स्थित ट्रामा सेण्टर-2 के साथ-साथ इलेक्ट्रान माइक्रोस्कोपी, लीनियर एक्सेलरेटर एवं मेमोग्राफी मशीन भी शामिल है।
मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में यह भी कहा कि इस चिकित्सा विश्वविद्यालय में बड़ी संख्या में लोग इलाज के लिए आते हैं। इसलिए राज्य सरकार यहां विश्वस्तरीय सुविधाएं एवं उपकरण उपलब्ध कराने के लिए धन की कमी नहीं होने देगी और हर जरूरी सहयोग प्रदान किया जाएगा। यहां आने वाले मरीजों में हृदय रोग से पीडि़त मरीजों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसलिए यहां की जरूरतों को देखते हुए कार्डियोलाजी विभाग के भवन विस्तार का शिलान्यास किया गया है।

उन्होंने कहा कि कार्डियोलाजी विभाग में प्रत्येक जरूरी सुविधाएं शीघ्र उपलब्ध कराने के लिए इस भवन को टर्न-की बेसिस पर बनाया जाएगा, जिससे सारे कार्या को पूरा करने हेतु एक ही संस्था की जिम्मेदारी निर्धारित की जा सके। उन्होंने भरोसा जताया कि विश्वविद्यालय में आने वाले मरीजों के साथ अच्छा व्यवहार किया जाएगा, जिससे लोगों में संस्था के प्रति भरोसा पैदा हो और मरीज महसूस कर सके कि यहां उन्हें बेहतर इलाज उपलब्ध होगा।

श्री यादव ने कहा कि आजादी के इतने वर्षों बाद भी ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सकों की उपस्थिति सोचनीय बनी हुई है। हम सभी को मिलकर इस समस्या के समाधान के लिए प्रयास करना होगा, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में अच्छी एवं विश्वसनीय चिकित्सा सुविधा मिल सके। उन्होंने कहा कि विगत चार वर्षों में राज्य सरकार ने न केवल ऐतिहासिक फैसले लेकर उन्हें जमीन पर उतारने का काम किया है, बल्कि गांव एवं गरीब तक पहुंचने का प्रयास भी किया गया है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।

चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में वर्तमान राज्य सरकार द्वारा किए गए कार्या का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा विभाग राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप योजनाओं को तेजी से अंजाम देने का काम कर रहा है। जहां राजकीय मेडिकल कालेजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई वहीं एम0बी0बी0एस0 की सीटों में भी भारी इजाफा हुआ है। उन्होंने कहा कि मेडिकल काउंसिल आॅफ इण्डिया को संतुष्ट करते हुए इन परियोजनाओं को आगे बढ़ाना मामूली कार्य नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्व राज्य सरकार द्वारा इस क्षेत्र में कोई कार्य नहीं किया गया। राजकीय मेडिकल काॅलेजों की स्थापना गम्भीरता से प्रयास आदरणीय नेताजी द्वारा शुरू किया गया था। जिसे वर्तमान राज्य सरकार ने बढ़ाकर प्रदेश में मेडिकल काॅलेजों की संख्या दोगुनी करने का काम किया है।

पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करने एवं सेहत के लिए फायदेमन्द सवारी साइकिल का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सैफई देश का पहला गांव होगा जहां सुरक्षित एवं आरामदायक साइकिल सवारी के लिए साइकिल ट्रैक बनाया जा रहा है। इसी प्रकार लखनऊ सहित तमाम अन्य शहरों में भी साइकिल ट्रैक बनाए जा रहे हैं। उन्होंने के0जी0एम0यू0 में साइकिल ट्रैक के लिए किए गए शिलान्यास की सराहना करते हुए कहा कि राज्य सरकार आगरा से लायन सफारी, इटावा तक साइकिल हाईवे का निर्माण कराने जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने विश्वस्तरीय बुनियादी सुविधाओं के निर्माण के लिए जिस पैमाने पर प्रयास किया है, वह अन्य सरकारों के लिए एक उदाहरण है। लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि देश का यह सबसे तेजी से बनने वाला मेट्रो है। इसी प्रकार आगरा से लखनऊ के लिए बनने वाले एक्सप्रेस-वे का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इसी वर्ष अक्टूबर-नवम्बर से इस एक्सप्रेस-वे पर वाहन चलने लगेंगे। उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर गांव एवं गरीबों के जीवनस्तर में सुधार के लिए संयुक्त प्रयास करना होगा। उन्होंने इस चिकित्सा विश्वविद्यालय के कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान का आश्वासन देते हुए कहा कि उनकी मांगों पर शीघ्र निर्णय लिया जाएगा।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रवि कान्त ने उपस्थित लोगों का स्वागत करते हुए कहा कि के0जी0एम0यू0 में मरीजों को सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए गम्भीरता से काम किया जा रहा है। इस वर्ष मेडिकल काउंसिल आॅफ इण्डिया ने विश्वविद्यालय के लिए 250 एम0बी0बी0एस0 की सीटों की अनुमति प्रदान की है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में सुपर स्पेशियलिटी की सुविधा देने के लिए सभी विभागों में आवश्यकतानुसार स्नातकोत्तर की पढ़ाई शुरू की जा रही है।

इससे पूर्व, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री अनूप चन्द्र पाण्डेय ने कहा कि पिछले चार वर्षांे में मुख्यमंत्री के प्रयासों से चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में एक खामोश क्रांति को अंजाम दिया जा रहा है। देश की आजादी से लेकर वर्ष 2012 तक जहां राज्य में एम0बी0बी0एस0 की 1140 सीटे थी, वहीं इस वर्ष इनकी संख्या बढ़कर 1740 हो गई है, जो कि आगामी वर्षाें में 03 हजार से अधिक हो जाएंगी। इस वर्ष के बजट में 11 राजकीय मेडिकल काॅलेजों के निर्माण के लिए आवश्यक धनराशि का प्राविधान किया गया है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे के शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।

इसी प्रकार एम0डी0/एम0एस0 की वर्तमान 603 सीटों की संख्या इस वर्ष के अन्त तक बढ़कर करीब 01 हजार हो जाएगी। पैरामेडिकल स्टाफ की उपलब्धता बढ़ाने के लिए भी काम किया जा रहा है। अगले वर्ष से करीब 15 हजार पैरामेडिकल कर्मी उपलब्ध होेने लगेंगे। उन्होंने कहा कि गत वित्तीय वर्ष में चिकित्सा शिक्षा विभाग के लिए जहां 1600 करोड़ रुपये का बजट प्राविधान किया गया था, वहीं इस वर्ष 3600 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

इस अवसर पर प्रो0 मंसूर हसन ने भी अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में बेसिक शिक्षा मंत्री श्री अहमद हसन, राजनैतिक पेंशन मंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी सहित बड़ी संख्या में चिकित्सक, प्रोफेसर एवं मेडिकल छात्र-छात्राएं शामिल थीं।

Foundation stone laid for extension of the Cardiology department

Once completed, the project will ensure 24×7 services at the cardiology department round the year

Trauma Center-2 at Rae Bareli road inaugurated

Foundation stones of the Burn Unit and Organ Transplant ICU also laid

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे का शिलान्यास एवं लोकार्पण करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 11 अप्रैल, 2016 को लखनऊ में के0जी0एम0यू0 की परियोजनाआंे का शिलान्यास एवं लोकार्पण करते हुए।

State Government working seriously towards providing healthcare and medical facilities to people of the state : CM

Owing to efforts of the present state government, there has been considerable increase in the number of MBBS seats and government medical colleges

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has said that his government was working relentlessly to improve healthcare and medical facilities in the state. While the posts of doctors has been increased, more and more government medical colleges have also been established as also new institutes are being established and old ones being strengthened to ensure adequate availability of the para-medical staff.

Terming the KGMU as a front-ranking medical university in the country and the world, the Chief Minister said it has a glorious past and that pass-out from here were earning appreciation and respect all over the world. Mr. Yadav was speaking today at the Scientific Convention Centre after dedicating to the people and laying foundations of 35 projects worth Rs. 300 crore.

Among other projects, major is the Rs. 105 expansion of the cardiology ward. After the completion of this project, 100 more beds would be added. The Chief Minister also laid the foundation stone of expansion of the cardiology department which once completed will ensure 24×7 services round the year for those in need.

Other than these, foundation stone was laid for a burn unit and organ transplant ICU and the projects which were dedicated to the people included a Trauma Centre -2 at Rae Bareli road, electron microscopy, linear accelerator and mammography machine. In his address the Chief Minister detailed various efforts of the state government to improve healthcare, both in urban and rural areas.

He also assured the medical fraternity that availability of funds will not be a problem and exhorted them to ensure that best available and prompt treatment was given to those who come to the KGMU. Mr. Yadav also lamented the poor state of healthcare in rural areas even after so much time having passed since independence. The Chief Minister urged everyone to come together to improve the scenario and informed of various steps taken by the present government to bring about a turnaround in the healthcare sector.

Vice Chancellor of the Varsity, Prof. Ravi Kant while welcoming the guests said the KGMU was working hard to provide the best facilities to patients. He also informed that this year the Medical Council of India had approved adding 250 seats to the MBBS course. Before this, Principal Secretary (Medical Education) Mr. Anoop Chandra Pandey said due to the efforts of the Chief Minister the health sector had seen a silent revolution and informed how while from independence to the year 2012, state had 1140 MBBS seats, this year the number has grown to 1740.

On this occasion, Prof. Mansoor Hasan also expressed his views. Also present on the occasion were Basic Education Minister Mr. Ahmad Hasan, Political Pension Minister Mr. Rajendra Chowdhary, a large number of doctors, professors and medical students.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *