मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से उनके सरकारी आवास 5, कालिदास मार्ग पर इन्कम टैक्स के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर श्री एस0 के0 मिश्रा ने मुलाकात की।

Chief Minister Akhilesh Yadav issues directives to ensure bonfire, distribution of blankets and establishing night shelters during cold wave for the poor

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से उनके सरकारी आवास 5, कालिदास मार्ग पर इन्कम टैक्स के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर श्री एस0 के0 मिश्रा ने मुलाकात की।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से उनके सरकारी आवास 5, कालिदास मार्ग पर इन्कम टैक्स के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर श्री एस0 के0 मिश्रा ने मुलाकात की।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने भीषण ठण्ड एवं शीत लहर के दौरान गरीबों और निराश्रितों को राहत पहुंचाने के लिए सार्वजनिक स्थल पर अलाव की व्यवस्था करने और जरूरतमन्दों को कम्बल बांटने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों को आवश्यकतानुसार रैन बसेरे संचालित करने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने कहा कि राहत कार्य में किसी भी स्तर पर कोई शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यह जानकारी आज यहां देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में सभी जिलों को कम्बल की व्यवस्था के लिए 17 करोड़ रुपए उपलब्ध कराए जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त, अलाव के लिए 1 करोड़ 70 लाख रुपए की धनराशि भी मुहैया कराई जा चुकी है। इस प्रकार शीत लहर में राहत कार्यों के लिए 18 करोड़ 70 लाख रुपए की धनराशि शासन द्वारा 4 नवम्बर, 2015 को निर्गत की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि कम्बल हेतु 5 लाख रुपए तथा अलाव के लिए 50 हजार रुपए की धनराशि प्रत्येक तहसील को भेजी गई थी।

मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे सार्वजनिक स्थानों पर जलाए जा रहे अलावों तथा निराश्रितों को उपलब्ध करायी जा रही रैन बसेरे की सुविधा की जांच के लिए अधिकारियों की टीम गठित करें। श्री यादव ने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को नगरीय क्षेत्रों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में पर्याप्त चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने तथा अस्पतालों में चिकित्सकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए हैं, ताकि शीतकालीन आपदा की किसी भी स्थिति से निपटा जा सके। प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित किया जाए कि अत्यधिक ठण्ड एवं शीतलहरी के कारण किसी की मृत्यु भोजन, वस्त्र, आश्रय एवं चिकित्सा सुविधा के अभाव में न हो।

शीतलहरी के दौरान राहत पहुुंचाने के लिए शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि निराश्रित, असहाय तथा कमजोर वर्गों के लोगों को शीतलहरी से बचाने के लिए सम्बन्धित जिलाधिकारी द्वारा बिना समय गवाए जरूरतमन्द व्यक्तियों को समय से निःशुल्क कम्बल आदि की सुविधा उपलब्ध कराई जाए, ताकि अत्यधिक ठण्ड की पूरी अवधि में यह सुविधा उन्हें मिल सके।

शीत लहर में राहत कार्यों के लिए 18 करोड़ 70 लाख रु0 शासन द्वारा निर्गत
राहत कार्य में किसी भी स्तर पर कोई शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी

Government releases Rs. 18.70 crore for relief work during the cold wave

No callousness will be tolerated in relief work

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has ordered officers to ensure that during the cold wave, for the relief of the poor and the destitute, adequate bonfires are lit, blankets distributed and night shelter established. He also warned officers of any callousness in the relief work.

Giving this information here today, a state government spokesman said that following the instructions of the Chief Minister, a sum of Rs. 17 crore has already been released to the districts for arranging of blankets and in addition, Rs. 1.70 crore has been released for lighting up bonfires, making the sum released for relief work during the cold wave add up to Rs. 18.70 crore, till November 4, 2015.

The spokesman further informed that a sum of Rs. 5 lakh for blankets and Rs. 50,000 for bonfires has been given per Tehsil. The Chief Minister has also directed officers to constitute teams to ensure that the bonfires are being lit at public places and facilities are up to the mark in night shelters. Mr. Yadav has also instructed the health department to ensure availability of doctors in both urban and rural areas so that medical aid could be provided to the needy.

The Chief Minister also asked officers to ensure that no death takes place due to lack of food, warm clothing, shelter or medical aid. Officers in all districts have also been directed to distribute blankets to the destitute, homeless, weak and people from the weaker sections.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *