Changing Behaviour: Creating Sanitation Change Leaders

“Changing Behaviour: Creating Sanitation Change Leaders” campaigns by Vidya Balan & UP CM Akhilesh Yadav

Changing Behaviour: Creating Sanitation Change Leaders
Changing Behaviour: Creating Sanitation Change Leaders

उत्तर प्रदेश में बने ‘टॉयलेट यूनिवर्सिटी’: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव

भारत को अगले दस साल में हर हाल में खुले में शौच से मुक्त होना होगा, अन्यथा हम दुनिया के सामने खड़े नहीं हो पाएंगे। आज ‘जागरण पहल’ और ‘रेकेट बेंकिजर’ के संयुक्त प्रयास ‘डेटॉल बनेगा स्वच्छ इंडिया’ के अंतर्गत स्वच्छता दूतों के सृजन अभियान की शुरुआत के दौरान वक्ताओं ने इस बात पर बल दिया। बिहार और उत्तर प्रदेश के दो सौ गांवों में चलने वाले इस अभियान के दौरान पूरी प्रक्रिया पर ‘डिजिटल नजर’ रहेगी।

परमार्थ निकेतन ऋषिकेश के संस्थापक स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि ऋषिकेश में देश के पहले ‘टॉयलेट कालेज’ की शुरुआत का प्रस्ताव है, किन्तु उत्तर प्रदेश को दुनिया की पहली ‘टॉयलेट यूनिवर्सिटी’ की पहल करनी चाहिए। ‘पहले शौचालय, फिर देवालय’ के भाव का समर्थन करते हुए कहा कि जब तक देश के हर घर में शौचालय नहीं बन जाए तब तक एक भी मंदिर नहीं बनना चाहिए। लोग भंडारे व प्रसाद पर इतना धन खर्च करते हैं लेकिन उसी खर्च से शौचालय बनवाने की पहल होनी चाहिए।

सामाजिक बंधन तोड़कर ही ‘बनेगा स्वच्छ इंडिया’ : मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का मानना है कि सामाजिक बंधनों को तोड़कर ही स्वच्छ भारत की परिकल्पना साकार हो सकती है। आज यहां एक पांच सितारा होटल में ‘जागरण पहल’ और ‘रेकेट बेंकिजर’ के संयुक्त प्रयास ‘डेटॉल बनेगा स्वच्छ इंडिया’ के अंतर्गत स्वच्छतादूतों के सृजन अभियान का शुभारंभ करते हुए उन्होंने कहा कि जागरूकता बढ़ी है, बस मानसिकता को अमल में बदलने की जरूरत है।

वाराणसी, कन्नौज व इटावा के गांवों में प्रस्तावित इस अभियान की प्रशंसा करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि भारत के स्वास्थ्य क्षेत्र को ठीक करना है तो उत्तर प्रदेश को भूल नहीं सकते हैं। वैसे भी जब किसी को प्रधानमंत्री बनना होता है तो वह उत्तर प्रदेश में जगह ढूंढ़ता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सफाई का काम तेजी से हो रहा है और एक साथ बड़ी संख्या में लोगों को सफाई कर्मचारी की नौकरी मिली है। यह अलग बात है कि झाड़ू थामने की नौकरी करने वालों ने अपनी झाड़ू किसी और को थमा दी है। उन्होंने कहा कि ग्र्राम प्रधानों के पास सफाई अभियान की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है, किन्तु वे स्वयं संपन्न होने की दौड़ में लगे हैं। इतना जरूर हुआ है कि लोग सफाई के प्रति जागरूक हो रहे हैं। इस समस्या के लिए गरीबी भी बड़ा कारण है। नदियां भी शहर में घुसते समय साफ होती हैं, किन्तु निकलते-निकलते गंदी हो जाती हैं। यह शहरवासियों के मलमूत्र व सीवेज के कारण होता है। उसका नियोजन होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में जिस तरह से सूचना तंत्र मजबूत हो रहा है उससे निश्चित रूप से जागरूकता बढ़ी है। सरकार ने बच्चों के बीच ‘हम और हमारा स्वास्थ्य’ पुस्तक के माध्यम से जागरूकता का फैसला किया है। इसमें सफाई व शौचालयों के साथ व्यवहारपरक शिक्षा जोडऩे की पहल भी हो सकती है। सरकार तीन लाख रुपये से अधिक खर्च कर लोहिया आवास बना रही है, जिनमें शौचालय भी बनाए जा रहे हैं। कार्यक्रम में परमार्थ निकेतन ऋषिकेश के संस्थापक स्वामी चिदानंद सरस्वती ‘मुनि जी महाराज’, फिल्म अभिनेत्री विद्या बालन, पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश, विश्व टायलेट ऑर्गनाइजेशन के संस्थापक जैस सिम, ‘रेकेट बेंकिजर’ के दक्षिण एशिया के क्षेत्रीय निदेशक नीतीश कपूर ने शौचालयों की आवश्यकता पर बल दिया। वक्ताओं ने कहा कि शौचालय समाज की तात्कालिक जरूरत हैं और इन्हें पूरा करने के लिए समाज, सरकार और उद्यमियों को हाथ मिलाने होंगे। दैनिक जागरण के मुख्य संपादक संजय गुप्त ने स्वागत करते हुए स्वच्छता बढ़ाने के लिए शौचालय निर्माण की गति बढ़ाने के साथ समाज के साथ हर कदम पर सहयोग करने का संकल्प दोहराया। संयोजन जागरण पहल के मुख्य अधिशासी अधिकारी आनद माधव व धन्यवाद ज्ञापन ‘पहल-द इनीशिएटिव’ के अध्यक्ष एसएम शर्मा ने किया। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन, समाज कल्याण मंत्री अवधेश प्रसाद, राजनीतिक पेंशन मंत्री राजेंद्र चौधरी, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री मनोज पाण्डेय भी मौजूद रहे।

Bollywood actress Vidya Balan, who is the national sanitation brand ambassador, along with with Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav flagged off an initiative titled “Changing Behaviour: Creating Sanitation Change Leaders” here on Tuesday. The project, which aims to make 100 villages in the country’s most populous state open defecation free, is backed by RB (formerly known as Reckitt Benckiser) India as part of its nationwide ‘Dettol Banega Swachh India’ national initiative, Pehel, a division of Shri Puranchandra Gupta Smarak Trust that has been actively involved in awareness generation and the state government.

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *