Government Medical College Badaun (UP)

BJP district general minister created ruckus in Badaun hospital

बदायूं में भाजपा जिला महामंत्री ने किया अस्पताल में हंगामा और डाक्टर मोहित यादव से की अभद्रता

सत्ता का जिला महामंत्री हूं मुझे जानते नहीं हो, इमरजेंसी में भी बैठूंगा और ईएमओ रूम में भी बैठूंगा। तुम कैसे डाक्टर हो क्या नए आए हो, नए आए हो तो मुझे पहचानो मेरा यहां जलवा चलता है।

यह शब्द भाजपा के जिला महामंत्री के थे। भाजपा के जिला महामंत्री ने जमकर हंगामा किया और सत्ता की हनक दिखा दी। यहां तक कि डाक्टर से अभद्रता की और उसके खिलाफ कोतवाली में तहरीर दे दी। जिसमें डाक्टर पर शराब पीने जैसे आरोप लगाए हैं।

वहीं डाक्टरों ने भी तहरीर दी गई है। जानकारी होने पर डीएम ने रात में ही सिटी मजिस्ट्रेट को जिला अस्पताल भेजा। जहां मामला कहासुनी का निकला। गुरुवार की शाम को जिला अस्पताल की इमरजेंसी अखाड़ा का केंद्र बन गई। यहां शाम को करीब पांच बजे इमरजेंसी में तैनात डाक्टर मोहित यादव ने मरीज लौंगश्री को देखा और वह फिर खाना खाने चले गए। ईएमओ रूम में वह खाना खा रहे थे।

इसी दौरान भाजपा जिला महामंत्री प्रभाकर वर्मा जिला अस्पताल की इमरजेंसी पहुंचे और स्टाफ से डाक्टरों के बारे में पूछने लगे। स्टाफ ने कहा कि डाक्टर खाना खा रहे हैं। इसके बाद वह सीधे ड्यूटी रूम में पहुंच गए, जहां डाक्टर खाना खा रहे थे। डाक्टर का आरोप है कि जिला पंचायत सदस्य बोले हम ऐसे ही बैठे हैं और आकर यहां अक्सर बैठते हैं। डाक्टर ने कहा काम बताइए और आप जाइए खाना खाने दो। इतने में जिला महामंत्री भड़क गए और डाक्टर से कहा लगता है तुम नए आए हो और पहचान नहीं रहे हो। मुझे भाजपा का जिला महामंत्री कहते हैं।

डाक्टर ने कहा काम बताई और काम न हो तो बहस न करें। इस बात पर दोनों में बात बढ़ गई और डाक्टर मोबाइल का कैमरा ऑन कर वह ड्यूटी रूम में आ गए और काम पूछा फिर भी नहीं बताया। मगर जमकर हंगामा किया। इस पर सभी डाक्टर एकत्र हो गए और नाराजगी व्यक्त की है। इधर प्रभाकर वर्मा का कहना है कि डाक्टर खाना नहीं खा रहे थे वह शराब पी रहे थे, जिसे देखकर विरोध किया तो डाक्टर भड़क गए। जिला महामंत्री ने दी तहरीर में कहा कि वह हड्ड़ी वार्ड में मरीज को देखने गए थे। डाक्टर न होने पर डाक्टर को तलाश रहे थे तो डाक्टर शराब पीते मिले हैं। जिला मंत्री ने कोतवाली में गंभीर आरोप में तहरीर दी है।

वहीं इसके बाद एकत्र डाक्टरों ने भी कोतवाली पुलिस को तहरीर दी है। डीएम तक मामला पहुंचने पर सिटी मजिस्ट्रेट को भेजा गया और जांच की है।

मरीज का उपचार करके खाना खाने ईएमओ चेयर पर आया था। खाना खा रहा था तभी प्रभाकर वर्मा जिला पंचायत सदस्य आए और बैठ गए। काम पूछा तो बताया नहीं, भड़क गए और गालीगलौच की। उनका कहना था ईएमओ रूम हमारा अड्डा है हम तो यहीं बैठेंगे। आप हमें जानते नहीं हो। अगर डाक्टरों के साथ ऐसा व्यव्हार किया जाएगा तो काम कैसे कर पाएंगे। – डॉ. मोहित यादव, ईएमओ

जिला अस्पताल की इमरजेंसी को शराब का अड्डा बना लिया है। इमरजेंसी हम पहुंचे तो डाक्टर कुर्सी से गायब थे। पता चला कि ड्यूटी रूम में हैं, रूम में देखा वह शराब पी रहे थे। हमने इसका विरोध किया तो भड़क गए। चाहते तो हम सपा-बसपा वालों की तरह कस सकते थे, लेकिन ऐसा नहीं किया। कोतवाली में तहरीर दी है डीएम को भी बता दिया है। – प्रभाकर वर्मा, जिला पंचायत सदस्य

मौके पर जामकर देखा तो मामला कहासुनी का निकला। डाक्टर ने न तो शराब पी रहे थे और न ही वे शराब पीकर डयूटी करते मिले। इस मामले की रिपोर्ट डीएम को दे दी है। – केके अवस्थी, सिटी मजिस्ट्रेट

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *