farmers

Been in line for two days, yet manure was not found

बदायूं जिले में दो दिन से लगे हैं लाइन में, फिर भी खाद नहीं मिली

अलापुर में खाद को लेकर किसान काफी परेशान हैं। किसान सुबह से ही कई किलोमीटर दूर से आकर लाइन में लग जाते हैं। लाइन में लगने के बाद भी किसानों को खाद न मिल पाने का कारण खाली हाथ निराश होकर लौटना पड़ता है। प्राइवेट दुकानों की ओर से खाद जान बूझकर ट्रक के आधे कट्टे दुकान पर तथा आधे कट्टे आस पड़ोस की जगहों पर रखकर सेटिग के आधार पर रात के समय ब्लैक में बेची जा रही है। सहकारी समितियों को खाद न मिल पाने के कारण किसान दर-दर कि ठोकरें खाने को मजबूर हैं। जब किसानों ने खाद के लिए चिल्लना जाम लगाना शुरू किया। तब कहीं अधिकारियों को होश आया कि जिले में खाद के लिए किसान परेशान हैं। किसान को खाद न मिल पाने की वजह से बाजरा, धान आदि फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। कई-कई दिन पहले किसानों से पैसे लेकर टोकन से दिए जाते हैं, लेकिन जब वह खाद लेने पहुंचते है तो फिर दुबारा उन्हें लाइन में लगवाया जा रहा है। जिससे किसानों को कई-कई दिनों तक खाद नहीं मिल पाती है। भरपूर खाद होने पर किल्लत खत्म न होने पर निजी दुकानदारों की भूमिका भी संदिग्ध बनी हुई है। दिन निकलते ही खाद की दुकानों के बाहर किसानों कि भीड़ लगना शुरू हो जाती है। जो शाम तक लगातार बनी रहती है। कई बार किसानों को खाद नहीं मिलने की वजह से खाली हाथ लौटना पड़ता है।

दावा फेल, किसान सेवा केंद्र पर नहीं मिली यूरिया

बदायूं जिला प्रशासन किसानों के लिए जिले में भरपूर यूरिया होने का दावा कर रहा है। जो पूरी तरह से फेल है। मंडी समिति स्थित इफको किसान सेवा केंद्र पर किसान सुबह से लाइन में लगे रहे। केंद्र के संचालकों ने यूरिया न होने की बात कहकर वापस जाने की बात कही लेकिन किसान भूखे-प्यासे अपनी जगह पर ही डटे रहे। सिर पर धूप से परेशानी हुई तो लाइन में लगी महिलाएं अपने स्थान पर ईंट, जोतवही आदि सामान रखकर पेड़ की छांव में बैठ गईं।

जिला प्रशासन ने जिले में हजारों कट्टे खाद उपलब्ध होने की बात कही थी लेकिन इस केंद्र पर यूरिया का इंतजाम नहीं किया गया। किसान सेवा केंद्र का गोदाम पूरी तरह से खाली पड़ा रहा। केंद्र संचालकों से जानकारी की तो उन्हें ऑनलाइन देखी और फैक्ट्री से यूरिया लोड होने के बारे में किसानों को बताया। किसान सेवा केंद्र पर यूरिया पहुंचने के इंतजार में किसान घंटों तक वहीं धूप में बैठे रहे। घंटों तक खाद पहुंचने पर अन्य किसान सेवा केंद्रों पर चले गए। किसानों से बात :

जिला प्रशासन ने जिले में भरपूर होने का दावा किया है। जो पूरी तरह से फेल हो गया है। किसानों को घंटों लाइन में लगकर भी यूरिया मिल ही नहीं पा रही है।

इरशाद खां सुबह से लेकर दोपहर इंतजार करने के बाद भी किसान सेवा केंद्र पर यूरिया के बारे में जानकारी नहीं दी गई। किसानों की कम भीड़ होने के बाद भी यूं ही बैठकर चले गए।

सब्बली जिले में सरकारी व प्राइवेट दुकानों पर भरपूर यूरिया होने की जानकारी दी गई लेकिन स्थिति दावों से जुदा है। घंटों तक लाइन में लगकर भी यूरिया नहीं मिल सकी।

मुकेश यूरिया के लिए साफ मना कर दिया जाए तो अन्य दुकान पर जाकर इंतजाम किया जाए। केंद्र संचालक ने यूरिया आने का समय तक नहीं बताया। किसान भूखे खड़े रहे। – श्यामबाबू

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *