मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव, सांसद श्री धर्मेंद्र यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में युनाईटेड युनिवर्सिटी का शिलान्यास करते हुए।

Allahabad to be developed like Greenland: Chief Minister Akhilesh Yadav

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव, सांसद श्री धर्मेंद्र यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में युनाईटेड युनिवर्सिटी का शिलान्यास करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव, सांसद श्री धर्मेंद्र यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में युनाईटेड युनिवर्सिटी का शिलान्यास करते हुए।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने इलाहाबाद के सर्वांगीण विकास के लिए 28,608 लाख रु0 की विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया

सीएम पैकेज—युवा मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के सामने जवां जोश

मेट्रो रेल बिना कैसी स्मार्ट सिटी : मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव

मुख्यमंत्री ने इलाहाबाद के सर्वांगीण विकास के लिए 28,608 लाख रु0 की विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया

नैनी के सड़वा में सरस्वती हाई-टेक सिटी के लिए भूमिपूजन के बाद 286 करोड़ रुपये की 19 परियोजनाओं के शिलान्यास, लोकार्पण मौके पर हुई जनसभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश पहले ही हाईटेक होने की राह पर है। बोले, केंद्र सरकार ने डिजिटल इंडिया की बात अभी शुरू की है, प्रदेश में तो कोई ऐसा गांव नहीं बचा, जहां के छात्रों के हाथों में लैपटाप न हो। बताया कि केंद्र के एक मंत्री ने उनको फोन करके इलाहाबाद को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए अमेरिका से समझौते की बात बताई थी। इस मैंने उन्हें आश्वस्त किया कि आप एमओयू साइन करके आइए, राज्य सरकार पूरा सहयोग करेगी। इसके साथ ही उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से पूछा कि ‘आप ही बताइए वह शहर कैसे स्मार्ट बन सकता है, जहां मेट्रो ट्रेन न हो।’ इसके साथ ही यह सवाल भी दागा कि ’13 की संख्या शुभ होती है क्या? दोनों ही सवालों का जवाब मिला ‘नहीं’। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी इच्छा 14-15 शहरों को स्मार्ट बनाने की है। केंद्र के स्तर पर अभी स्मार्ट सिटी का फिलहाल प्लान ही बन रहा है, जबकि प्रदेश सरकार ने इससे भी एक कदम बढ़ाकर धार्मिक शहर प्रयाग में हाईटेक सिटी बसाने का श्रीगणेश कर दिया है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यासलोकार्पण करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में विभिन्न विकास परियोजनाओं का शिलान्यासलोकार्पण करते हुए।

अधिग्रहण में किसानों का समर्थन

मुख्यमंत्री ने बीते तीन साल में प्रदेश में बुनियादी ढांचे को विकसित करने का दावा किया। बोले जितना 10 साल में नहीं हुआ, उतना इस अवधि में हुआ। कहा कि हम गांवों को सड़कों के माध्यम से शहरों से जोड़ रहे हैं। मंडियां बना रहे हैं। केंद्र सरकार भूमि अधिग्रहण मामले में भले ही पीछे हट गई, हम किसानों की सहमति से हाईवे बना रहे हैं। इलाहाबाद का बारा पावर प्लांट जल्द ही शुरू हो जाएगा। प्रयाग में समाजवादी पार्क बनेगा। साथ ही गंगा पर एक ऐसे पुल का निर्माण होगा, जिसकी ख्याति पूरे विश्व में होगी। मौजूद पार्टीजनों व समर्थकों को उन्होंने चुनावी तैयारियों में जुटने की भी नसीहत दी।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में विभिन्न विकास परियोजनाओं के शिलान्यासलोकार्पण अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में विभिन्न विकास परियोजनाओं के शिलान्यासलोकार्पण अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए।

निवेशकों का दिल से स्वागत

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पूंजी निवेश करने वाले उद्योगपतियों को खुले दिल से स्वागत किया जाएगा। आज शाम अपने सरकारी आवास पर मुख्यमंत्री ने आइटीसी चेयरमैनवाईसी देवेश्वर को उद्योगपतियों व उद्यमियों को दी जा रही सहूलियत की जानकारी दी। देवेश्वर ने लखनऊ में होटल, नोएडा में होटल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, उन्नाव के पास फूड पार्क व लॉजिस्टिक पार्क, सहारनपुर में स्थित अपने प्लांट के विस्तार व राज्य में एक आटा मिल स्थापित करने में दिलचस्पी दिखाई। आइटीसी की इन परियोजनाओं के माध्यम से 1,200 करोड़ रुपये का निवेश होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार प्रदेश में निवेश के लिए उद्योगों को सभी प्रकार की सहूलियतें उपलब्ध कराने के लिए तत्पर है। इसके लिए एकल खिड़की व्यवस्था लागू की गयी है।

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में मेधावी छात्रछात्राओं को लैपटाॅप वितरण अवसर पर।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 2 सितम्बर, 2015 को जनपद इलाहाबाद में मेधावी छात्रछात्राओं को लैपटाॅप वितरण अवसर पर।

42 वर्ष बाद एक बार फिर औद्योगिक नगरी नैनी को संजीवनी मिली है। बुधवार को नैनी में हाईटेक सिटी के शिलान्यास के बाद इसकी उम्मीद बंधी है। खाली पड़ी जमीनों का सही उपयोग हुआ तो आने वाले दिनों में औद्योगिक नगरी अपने मूल स्वरूप में लौट सकती है।

सिडनी की तरह बनेगा गंगा पर ब्रिज

ह दिन दूर नहीं जब संगम नगरी में भी अंतराष्ट्रीय स्तर का ब्रिज देखने को मिलेगा, जो यहां की पहचान बनेगी। ब्रिज के निर्माण में डेढ़ हजार करोड़ रुपये लगेंगे, प्रदेश सरकार इस बजट का प्रावधान करेगी। इसकी घोषणा बुधवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने औद्योगिक क्षेत्र के सड़वा गांव में सरस्वती हाईटेक सिटी के भूमि पूजन और शिलान्यास के अवसर पर की।

मुख्यमंत्री ने कोलकाता की पहचान हावड़ा ब्रिज, सिडनी और लंदन की पहचान अंतर्राष्ट्रीय ब्रिज से होने का हवाला देते हुए कहा कि यहां यमुना पर बना ¨रग ब्रिज भी अलग पहचान रखता है। फिर भी यहां पर एक ऐसे अंतर्राष्ट्रीय ब्रिज की जरूरत है जिसके बनने के बाद प्रयाग के लोग गर्व का अनुभव करें। उन्होंने गंगा (संगम) पर ब्रिज निर्माण के लिए करीब एक हजार करोड़ रुपये का प्रस्ताव पहले से ही बनने की बात कही, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बनाया जाएगा, चाहे उसके लिए डेढ़ हजार करोड़ रुपये लगें। बता दें कि जल निगम की कंस्ट्रक्शन एंड डिजाइन सर्विसेस (सीएंडडीएस) ने संगम पर फोरलेन के ब्रिज निर्माण के लिए 950 करोड़ रुपये का प्रस्ताव बनाकर पहले ही शासन को भेजा है। उसमें से 325 करोड़ रुपये जारी भी हो चुका है। फोरलेन ब्रिज निर्माण की घोषणा कुंभ मेले के समय ही हुई थी, लेकिन इसमें तेजी गत वर्ष से आई है।

Musing India
Author: Musing India

musingindia.com is a leading company in Hindi / English online space. musingindia.com is a leading company in Hindi/English online space. Launched in 2013, musingindia.com is the fastest growing Hindi/English news website in India, and focuses on delivering around the clock national and international news and analysis, business, sports, technology entertainment, lifestyle and astrology. As per Google Analytics, musingindia.com gets 10,000 Unique Visitors every month.

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *