समाजवादी पार्टी

Akhilesh Yadav writes letter to the country, BJP is hollow and wasting democracy

अखिलेश यादव ने देश के नाम लिखा पत्र, भाजपा लोकतंत्र को खोखला और बर्बाद कर रही

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पश्चिम बंगाल की घटना पर देशवासियों के नाम पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह व यूपी के मुख्यमंत्री पर अजीबो-गरीब टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि भाजपा देश में लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर कर रही है। लोकतंत्र खतरे में है और बर्बाद हो रहा है। ऐसे में न्यायपालिका, प्रशासन और आम लोगों को भाजपा के खिलाफ मजबूती से खड़ा होना होगा।

प्रधानमंत्री पर हमला

अखिलेश ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया है। उन्होंने कहा है कि नितिन गडकरी ने सही कहा कि जो घर नहीं संभाल सकता वह देश कैसे संभालेगा। अखिलेश ने प्रधानमंत्री, अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही मीडिया पर टिप्पणी की है। कहा है कि मीडिया भ्रष्ट हो गया है और इन सबके कारण देश बर्बाद होने की कगार पर है। अल्पसंख्यक लोग सहमे-डरे हुए हैं और इस भय में जी रहे हैं कि कहीं उन्हें भाजपा के आईटी सेल द्वारा फैलाई गई अफवाह के चलते भीड़ घेरकर मार न डाले। उन्होंने भाजपा के आईटी सेल को इंटरनेट टेरेरिस्ट सेल की संज्ञा दी है।

विपक्ष को फर्जी मामलों में फंसा रहे

अखिलेश ने कहा है कि पिछले 24 घंटे में पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी हुआ है उससे साफ है कि लोकतंत्र को षड्यंत्र के तहत खोखला और बर्बाद किया जा रहा है। इसके लिए भाजपा ने विपक्षी नेताओं को गैरकानूनी तरीके से कानूनी मसलों में फंसाने, उन्हें देशद्रोही और राष्ट्र विरोधी बताने जैसे हथकंडे अपना रखे हैं।

ममता पश्चिम बंगाल में अकेले कर रहीं संघर्ष

सपा प्रमुख ने कहा है कि ये लोग यह भूल गए कि ममता बनर्जी वही महिला हैं जिन्होंने ज्योतिबसु से संघर्ष कर कम्युनिष्टों को सत्ता से बाहर किया। यह वही ममता हैं जिन्होंने दुराचारियों का विरोध किया और जेल तक गईं। किसानों के खिलाफ उद्योगपतियों के खिलाफ संघर्ष किया ताकि उनकी जमीनें न जाएं। अखिलेश ने अपील की कि चुनाव मतदान केंद्रों पर लड़े जाएं न कि देर रात छापेमारी और झूठे आरोप के जरिए।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *