Jobs

13 new Corona positive cases found in Faridabad Haryana

फरीदाबाद में कोरोना संक्रमण के 4 पुलिसकर्मियों सहित 13 नए मामले सामने आए, कुल संक्रमितों की संख्या हुई 163

हरियाणा के फरीदाबाद में जिला स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को कोरोना के 13 नए मामलों की पुष्टि की है। इनमें सेक्टर-55 पुलिस चौकी व सारन थाना के चार पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। इसके अलावा कोरोना का वायरस नीमका जेल तक भी पहुंच गया है। यहां पर न्यायिक हिरासत में बंद दो कैदियों में संक्रमण पाया गया है। सभी 13 संक्रमितों को ईएसआइसी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा नौ लोग कोरोना वायरस के संक्रमण को मात देने में कामयाब रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार सेक्टर-55 पुलिस चौकी में 29, 54 व 33 वर्षीय पुलिसकर्मी व सारन पुलिस चौकी में 45 वर्षीय पुलिसकर्मी में वायरस का संक्रमण पाया गया है। दिलचस्प बात यह है कि यह पुलिसकर्मी सेक्टर-17 थाने के हवलदार के संपर्क में थे, इसलिए इनका टेस्ट कराया गया था। इधर सेक्टर-17 थाने के पुलिसकर्मी की रिपोर्ट नेगेटिव आ गई, जबकि इनकी पॉजिटिव। अब सारन थाना व सेक्टर-55 की चौकी को पूरी तरह सैनिटाइज किया गया है। इनके संपर्क में आए हुए पुलिसकर्मियों को क्वारंटाइन किया गया है।

तीन साल की बच्ची, 13 वर्षीय किशोरी व 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला भी चपेट में

स्वास्थ्य विभाग ने मिल्हाड कॉलोनी में रहने वाले 13 वर्षीय किशोरी, बल्लभगढ़ जैन कॉलोनी में रहने वाली तीन वर्षीय बच्ची, डबुआ कॉलोनी में रहने वाली 60 वर्षीय बुजुर्ग महिला को भी संक्रमित घोषित किया है। बल्लभगढ़ के गांव डीग में रहने वाला 18 वर्षीय युवक भी संक्रमित पाया गया है, जो प्याला गांव की एक निजी कंपनी में काम करता है। एनआइटी तीन के डी-ब्लॉक में रहने वाले 62 वर्षीय बुजुर्ग में कोरोना की पुष्टि हुई है, जो शहर के एक निजी अस्पताल में 17 मई को दाखिल हुए थे। स्वास्थ्य विभाग ने पल्ला में रहने वाले एक 25 वर्षीय मीडिया कर्मी को भी संक्रमित घोषित किया है, जो नोएडा में एक बड़े न्यूज चैनल में काम करता है। वहीं, एक निजी अस्पताल में काम करने वाले 21 वर्षीय स्वास्थ्य कर्मी में सक्रमण की पुष्टि हुई है, जो एक संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आकर बीमार हुआ है।

दो विचाराधीन कैदियों को संक्रमण

स्वास्थ्य विभाग ने नचौली में रहने वाले 49 वर्षीय व्यक्ति व तुगलकाबाद में रहने वाले 22 वर्षीय युवक के संक्रमित होने की पुष्टि की है। सोमवार रात को यह दोनों अपने दिए गए पते पर नहीं थे। स्वास्थ्य विभाग इनकी खोज में लगा रहा, लेकिन मंगलवार सुबह यह दोनों नीमका जेल में मिले। जेल सुपरीटेंडेंट संजीव कुमार ने बताया कि आपराधिक मामलों के चलते कोर्ट ने इन दोनों को न्यायिक हिरासत में भेजा हुआ था। जिन बैरेक में यह दोनों थे, वहां 14 अन्य कैदी भी थे। उन्हें अलग-अलग कमरों में क्वारंटाइन किया गया है। साथ ही उनके सैंपल भी लिए गए हैं। 13 नए केस आने के बाद जिले में संक्रमितों की संख्या 163 हो गई है। इनमें से 86 लोग ठीक हो गए हैं, छह की मौत हो गई है, 65 लोगों का अस्पताल में व छह का होम आइसोलेशन में इलाज चल रहा है। जिले में अभी तक 7678 लोगों के सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से 6801 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। अभी 714 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है। -डॉ.रामभगत, उपमुख्य चिकित्सा अधिकारी

घर में रह कर कोरोना से सुरक्षित रहें बुजुर्ग व बच्चे

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के औद्योगिक जिले फरीदाबाद में कोरोना संक्रमण का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। कोरोना संक्रमण से बचना है, तो बुजुर्ग व बच्चे घर पर रहें। अभी तक बुजुर्गों व बच्चों को घर में रख कर जिला प्रशासन अपने जागरूकता मकसद में कामयाब भी रहा है। इसके विपरीत युवा ज्यादा संक्रमण की चपेट में आए हैं। अब तक कोरोना के आए 164 मामलों में से युवा ही अधिक संख्या में संक्रमित हुए है। जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से अलग-अलग आयु वर्ग की तैयार की गई रिपोर्ट से इस बात की पुष्टि होती है। लॉकडाउन में जिन्होंने मूवमेंट जारी रखी या जो कोरोना संक्रमित के संपर्क में रहे, वे ही कोरोना की चपेट में आए।

रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई कि जिस तरह लॉकडाउन में पिछले दो हफ्तों में जैसे-जैसे मूवमेंट बढ़ी, मामले भी बढ़ते चले गए। जिले में 4 मई तक कोरोना के 75 मामले थे। जबकि 19 मई शाम तक 164 मामलों की पुष्टि की गई है। कोरोना से 6 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि इनमें 3 मामले ऐसे भी थे, जिनमें कोरोना संक्रमित मरीज अन्य कई बीमारियों से भी पीड़ित थे। कोरोना हुआ, इसलिए कोरोना के रिकार्ड में उनका नाम दर्ज किया गया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी युवाओं में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर फिक्रमंद हैं, साथ ही उन क्षेत्रों में जागरूकता अभियान के तहत सर्वे और स्वास्थ्य जांच बढ़ा दी है, जहां अब तक ज्यादा मामले आए हैं। हमने हर आयु वर्ग के हिसाब से कोरोना संक्रमितों के केसों की रिपोर्ट तैयार करनी शुरू कर दी है। इसी रिपोर्ट के आधार पर कोरोना नियंत्रण अभियान तेज किया है। संदिग्ध मरीजों के नमूने लिए जा रहे है। जरूरत है तो हर नागरिक को लॉकडाउन का पालन करने की, तभी हम सुरक्षित रह पाएंगे। – डॉ. कृष्ण कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

हमें मालूम है कि संक्रमित के संपर्क में आने से जोखिम हो सकता है, तो हमें बचना चाहिए। युवा अधिक एक्टिव रहे हैं, इसलिए वे अधिक संक्रमित हुए। अगर एहतियात बरती जाती, तो बचाव हो पाता। कोरोना से बचना है, तो फूंक-फूंक कर कदम-कदम रखने होंगे। कई लोगों का फील्ड में जाना जरूरी भी है। जैसे स्वास्थ्यकर्मी और पुलिसकर्मी का। काम से अगर घर से बाहर निकलें, तो मास्क लगाएं। बार-बार हाथ धोएं। लापरवाही बरती, तो भारी पड़ सकती है। -डॉ. जयंत ठकुरिया, इंटरनल मेडिसन, फोर्टिस अस्पताल यह है स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट

आयु वर्ग , संख्या

-3-20, 24
-21-40, 72
-41-60, 48
-61 वर्ष से ज्यादा उम्र, 14
-कुल मामले,158
-मौतें, 06

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *